Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : न्यूजीलैंड के खिलाफ भले ही टीम इंडिया ने 4-1 से सीरीज जीत ली। लेकिन यह सीरीज रोहित शर्मा के लिए अच्छी नहीं रही। रोहित के लिए इस सीरीज में 11 का आंकड़ा अशुभ रहा। इस कारण वह बड़ा रिकॉर्ड बरकरार नहीं रख पाए। उधर, मैच दौरान पांच छक्के लगाकर हार्दिक पांड्या सोशल साइट्स पर फिर से ट्रोल हो गए। फैंस ने लिखा- आज तू करके आया है। पंजाब केसरी स्पोटर््स डेस्क आपके लिए लाए हैं ऐसी खबरें जो आप अपने व्यस्त शैड्यूल के चलते मिस कर जाते हैं। इस न्यूज बुलेटिन में हम आपको खेल जगत से जुड़ीं अब तक की बड़ी खबरों से रूबरू करवाएं। पढि़ए एक क्लिक में-

5th ODI: न्यूजीलैंड में सीरीज जीत बोली भारतीय टीम- हाऊ इज द जोश

Sports
वेलिंगटन में न्यूजीलैंड के खिलाफ पांचवां वनडे जीतने के साथ ही जहां भारत ने 4-1 से सीरीज अपने नाम की। वहीं, ट्रॉफी लेते वक्त टीम इंडिया के सदस्यों द्वारा बॉलीवुड फिल्म ‘उरी- द सॢजकल स्ट्राइक’ का मशहूर डायलॉग ‘हाऊ इज द जोश’ चर्चा का विषय रहा। इससे पहले भारत का शीर्ष क्रम फिर से नहीं चल पाया और उसने अपने पहले चार विकेट 18 रन पर गंवा लिए थे। ऐसे समय में अंबाती रायुडु (113 गेंदों पर 90 रन) ने विजय शंकर (64 गेंदों पर 45 रन) के साथ 5वें विकेट के लिए 98 और केदार जाधव (45 गेंदों पर 34 रन) के साथ छठे विकेट के लिए 74 रन की उपयोगी साझेदारियां करके भारत को शुरुआती झटकों से उबारा। 

अस्पताल से छुट्टी मिलते ही श्रीलंका के करुणारत्ने ने लगाई हाॅफ सेंचुरी, पैट की गेंद पर हुए थे घायल
श्रीलंका के दिमुथ करुणारत्ने ने अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद आस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में रविवार को यहां बल्लेबाजी की और इस बीच अपना अर्धशतक पूरा किया। यह अनुभवी सलामी बल्लेबाज शनिवार को जब 46 रन पर खेल रहा था तब पैट कमिन्स की उठती हुई गेंद उनकी गर्दन के पास लगी थी। वह लगभग दस मिनट तक मैदान पर लेटे रहे और बाद में उन्हें स्ट्रेचर पर बाहर ले जाया गया था।

पांड्या की बल्ले-बल्ले : 5वीं बार किसी बॉलर को जड़े लगातार 3 छक्के

Sports
न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन में खेेले गए पांचवें वनडे के दौरान भारतीय ऑलराऊंडर हार्दिक पांड्या अपनी दमदार परफार्मेंस के चलते सोशल मीडिया पर छाए रहे। पांड्या ने पहले तो एक समय मुश्किल में दिख रही भारतीय टीम के लिए तेजतर्रार 45 रन बनाए ही, साथ ही साथ 5 गगनचुंबी छक्के लगाकर एक बड़ा रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया। महज 45 वनडे खेलने वाले हार्दिक अपने करियर में 36 छक्के लगा चुके हैं। इनमें 5 मौके तो ऐसे आए जब उन्होंने किसी एक ही बॉलर को लगातार तीन छक्के जड़े।

11 का आंकड़ा रहा रोहित के लिए अशुभ, खतरनाक रिकॉर्ड बनाने से चूके

Sports
भारत के नियमित कप्तान विराट कोहली की गैर-मौजूदगी में टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ 4-1 से सीरीज जितवाने वाले कार्यवाहक कप्तान रोहित शर्मा भले ही शुरुआती मैचों में जमकर रन बरसा रहे थे लेकिन चौथे और पांचवें वनडे में वह कप्तानी के बोझ तले ऐसे दबे कि उनका बल्ला ठुस्स हो गया। चौथे वनडे में रोहित 7 तो 5वें में केवल 2 ही रन बना पाए। सीरीज में उनके नाम भले ही 169 रन रहे लेकिन वह पिछली 10 सीरीज से बनता आया एक रिकॉर्ड बरकरार रखने से चूक गए। लगातार 10 सीरीज से शतक लगाते आ रहे रोहित के लिए 11वीं सीरीज शुभ नहीं रही। 

ऑपरेशन के 3 महीने के बाद 45 वर्षीय अंजलि ने जीती मैराथन, तेंदुलकर ने बढ़ाया हौसला

Other Games
आपरेशन से उबरने के तीन महीने के बाद ही 45 वर्षीय अंजलि सारोगी ने कोलकाता मैराथन में करियर का सर्वश्रेष्ठ समय निकालते हुए रविवार को यहां अपने खिताब का बचाव किया। महिलाओं में सबसे अधिक उम्र की धाविका अंजलि ने तीन घंटे, 16 मिनट और 54 सेकेंड का समय लिया जो कि उनके पिछले साल के समय 3:30:53 से बेहतर है। अंजलि इससे पहले पिछले महीने मुंबई मैराथन में दौड़ी थी और एमेच्योर वर्ग में दूसरे स्थान पर रही थी। समीक्षा राय (4:04:40) दूसरे जबकि रश्मि सोमानी (4:15:24) तीसरे स्थान पर रही। तलानडिंग वालैंग (2:35:42) ने पुरूषों की मैराथन जीती। सूरत राज सुब्बा (2:40:22) ने दूसरा और फुलनिंगस्टार नोंगलांग (2:41:58) ने तीसरा स्थान हासिल किया।

कुश्ती की तरह टेनिस को भी प्राथमिकता दे सरकार : भूपति

Chennai open challenger : all eyes on Prajesh
भारत के डेविस कप कप्तान महेश भूपति ने कहा है कि टेनिस को कभी भी सरकार से ऐसा समर्थन प्राप्त नहीं हुआ जो मुक्केबाजी या कुश्ती को मिला है और उन्होंने टॉप्स की योजना में पुरूष एकल खिलाडिय़ों को भी शामिल करने का अनुरोध किया। वर्ष 2020 तोक्यो ओलंपिक को ध्यान में रखते हुए खेल मंत्रालय ने रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की युगल जोड़ी को सरकार की टॉप्स योजना में शामिल किया है जिन्होंने पिछले साल एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।  

छक्कों की हैट्रिक पर फैन्स ने पांड्या को किया ट्रोल, बोले-आज तो वाकई मैच में करके आया
न्यूजीलैंड के खिलाफ वेलिंगटन में खेले गए वनडे सीरीज के 5वें और आखिरी मैच में टीम इंडिया के कुंग फू पांड्या यानि वन एंड ओनली हार्दिक पांड्या ने अपने बल्ले का जादू दिखाकर तमाम क्रिकेट फैन्स का दिल जीत लिया। आखिर के ओवर्स में बल्लेबाजी करने आए पांड्या ने कीवी गेंदबाज के पसीने छुड़ाते हुए ना केवल एक के बाद एक सिक्स जड़कर छक्कों की हैट्रिक लगाई, बल्कि 22 गेंदों पर 204 की तूफानी स्ट्राइक रेट से कुल 5 छक्के और 2 चौकों की बदौलत 45 रनों की अहम पारी खेलते हुए जता दिया कि प्लेइंग इलेवन में उनका होना क्यों जरूरी है। वहीं पांड्या के छक्कों की हैट्रिक लगाने पर फैन्स ने उन्हें सोशल मीडिया पर अपने-अपने अंदाज में ट्रोल किया।

Analysis: आखिरी वनडे में मिडिल ऑर्डर ने बचा लिया, नहीं तो फिर डूबनी थी टीम इंडिया की नैय्या

Sports
 वेलिंगटन में खेले गए 5वें और आखिरी वनडे में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 35 रनों से हराकर ना केवल मैच जीता बल्कि शानदार तरीके से सीरीज 4-1 से अपने नाम की और अगर आखिरी वनडे में टीम की जीत के हीरो का जिक्र करें तो वो जाहिर तौर पर मिडिल ऑर्डर ही रहा, जिनकी बदौलत टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के सामने 253 रनों का लक्ष्य रखा और इसमें भी कोई दोराय नहीं कि अगर मुश्किल वक्त में मिडिल ऑर्डर भारतीय पारी को नहीं संभालता तो टीम इंडिया की नैय्या चौथे वनडे के माफिक फिर से डूबनी थी।

बोल्ट के आगे ‘नतमस्तक’ हुए धवन, इतना शर्मनाक रिकॉर्ड किसी का नहीं

Shikhar dhawan shameful records against Boult continue
न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन में खेले गए पांचवें वनडे के दौरान एक बार फिर से भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने निराश किया। सीरीज में 2 पचासे लगाने वाले धवन नियमित कप्तान कोहली के बगैर खेले गए चौथे और 5वें वनडे में बड़ा स्कोर नहीं बना पाए। खास बात यह रही कि पूरी सीरीज के दौरान धवन न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट के सामने नतमस्तक होते नजर आए। 5 मैचों में 4 बार बोल्ट ने धवन को पवैलियन लौटाया। वैसे ओवरऑल 5 बार धवन बोल्ट का शिकार बने हैं। बोल्ट इसके अलावा चार बार रोहित शर्मा और चार ही बार दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक को भी शिकार बना चुके हैं। 

सीरीज गंवाने पर बोले कप्तान विलियमसन- टीम इंडिया ने हमें घर में आकर सबक सिखाया

Team india taught us a few lessons in our own conditions : Kane williamson
न्यूजीलैंड के इतिहास में ऐसा सिर्फ चौथी बार हुआ जब वह पांच मैचों की सीरीज में इतनी बुरी तरह हारी। 4-1 से सीरीज गंवाने के बाद न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमन बेहद निराश दिखे। पोस्ट मैच सेरेमनी के दौरान उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल अलग तरह का विकेट था जिस पर खेलना चैलेंज से कम नहीं था। यह हमने तभी देख लिया था जब हम बॉलिंग कर रहे थे। जब हम खेल रहे थे तो स्कोरिंग रेट हमारे पक्ष में ही था लेकिन हमने गलत समय पर विकेट गंवाए। इससे पहले भारत के लिए रायडू ने बहुत अच्छी पारी खेली। वह कुछ समय से रन नहीं बना पा रहे थे। वह जिस तरह खेल रहे थे उससे हम पता चल गया कि आगे स्थितियां हमारे लिए खराब आने वाली हैं।


 

.
.
.
.
.