Sports

जालन्धर (जसमीत सिंह) : न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन में खेले गए पांचवें वनडे के दौरान एक बार फिर से भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने निराश किया। सीरीज में 2 पचासे लगाने वाले धवन नियमित कप्तान कोहली के बगैर खेले गए चौथे और 5वें वनडे में बड़ा स्कोर नहीं बना पाए। खास बात यह रही कि पूरी सीरीज के दौरान धवन न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट के सामने नतमस्तक होते नजर आए। 5 मैचों में 4 बार बोल्ट ने धवन को पवैलियन लौटाया। वैसे ओवरऑल 5 बार धवन बोल्ट का शिकार बने हैं। बोल्ट इसके अलावा चार बार रोहित शर्मा और चार ही बार दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक को भी शिकार बना चुके हैं। किसी एक ही सीरीज में सिर्फ एक ही गेंदबाज द्वारा आऊट होना संभवत: यह पहला शर्मनाक रिकॉर्ड है। मौजूदा सीरीज में वह बोल्ट की 68 गेंदें खेलकर 34 रन ही बना पाए हैं।

ऐसी रही शिखर धवन की पारियां
Shikhar dhawan shameful records against Boult continue

1. नेपियर में नाबाद 75 रन
2. माउंट मौंगमई में 66 रन, कैच लेथम बोल्ड बोल्ट
3. माउंट मौंगमई में 27 रन, कैच टेलर बोल्ड बोल्ट
4. हैमिल्टन में 13 रन, पगबाधा बोल्ट
5.  वैलिंगटन में 6 रन, कैच मैट हैनरी बोल्ड बोल्ट
5 पारियों में 188 रन, चारों बार बोल्ट ने किया आऊट

गंभीर ने बताई धवन की कमी

Shikhar dhawan shameful records against Boult continue
लगातार दो मैचों में धवन के फेल होने से कांमेंटेटर भी हैरान थे। ऐसे में गौतम गंभीर ने यह पहेली सुलझाई कि आखिर कौन-सी गलती के कारण  धवन अपना विकेट गंवा रहे हैं। गंभीर ने कहा- जब बल्लेबाज सीरिज के शुरुआत मैच में रन बनाता है तो वह गेंद को आगे आकर खेलना शुरू कर देता है। जबकि होना यह चाहिए कि बल्लेबाज को बढिय़ा शॉट लगाने के लिए गेंद अपने पास आने देनी चाहिए। धवन के मामले में क्या हो रहा है कि वह शुरुआती मुकाबले में पहले तो गेंद को पास आने दे रहे थे लेकिन जब चौथा आौर पांचवां मैच आया तो गेंद को दूसरे से खेलने लगे। इसी कारण वह अपना विकेट गंवाते रहे।

धवन-रोहित ने गांगुली और द्रविड़ को पीछा छोड़ा : भले ही धवन अपनी कमजोर बल्लेबाजी के लिए सोशल साइट्स पर ट्रोल हुए हो लेकिन मैच दौरान वह साथी रोहित शर्मा के साथ पार्टनरशिप कर एक बड़ा रिकॉर्ड भी तोड़ गए है। दरअसल रोहित और धवन के पार्टनरशिप के रन 3308 हो गए हैं। वह राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली को पीछे छोड़ गए हैं जिन्होंने अब तक 3296 रन एकसाथ जोड़े थे।

.
.
.
.
.