Sports

खेल डैस्क : केएल राहुल की कप्तानी टीम इंडिया का रास नहीं आ रही है। पहले टेस्ट सीरीज में हार और अब भारत ने वनडे सीरीज भी गंवा दी है। पर्ल के मैदान पर खेला गया दूसरा वनडे मैच दक्षिण अफ्रीका ने 7 विकेट से जीतकर वनडे सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली। सीरीज गंवाने के बाद भारतीय कप्तान केएल राहुल निराश दिखे। उन्होंने मैच के बाद हार के कारणों पर चर्चा करते हुए साफ तौर पर कहा कि दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने बेहतर खेल दिखाया इसलिए जीत उनके पाले में जा गिरी। 

 

यह भी पढ़ें-  SA v IND 2nd ODI : भारत ने गंवाई वनडे सीरीज, यह रहे भारत की हार के 5 प्रमुख कारण

यह भी पढ़ें- पंत की गलती से रन आऊट होते बचे केएल राहुल, गुस्से में निकाली आंखें : वीडियो

यह भी पढ़ें- ऋषभ पंत ने द. अफ्रीका खिलाफ जड़ा तेज तर्रार अर्धशतक, तोड़ा द्रविड़ और धोनी का रिकॉर्ड

यह भी पढ़ें- वनडे में 14 बार डक पर आऊट हुए विराट कोहली, इस देश के खिलाफ सबसे ज्यादा

 

केएल राहुल ने कहा कि मुझे लगता है कि वे घर में कुछ बहुत अच्छा क्रिकेट खेल रहे हैं। हम बीच में भी गलतियां कर रहे हैं। यह हमारे लिए अच्छी सीख है। हम एक ऐसी टीम हैं जो जीतने में बहुत गर्व महसूस करती है। उम्मीद है कि हम आगे बढ़ सकते हैं। हम उन चीजों को बेहतर करने की कोशिश कर रहे हैं जो हमने अतीत में अच्छा नहीं कीं। किसी भी टीम के लिए साझेदारी महत्वपूर्ण होती है खास तौर पर मध्य क्रम में। इसके अलावा बीच के ओवरों में गेंदबाजी भी महत्वपूर्ण हो जाती है।

केएल राहुल ने विकेट पर बात करते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि यह ऐसी पिच थी जहां वे इतनी आसानी से 280 रनों का पीछा कर सकते थे। उन्हें श्रेय जाता है। उन्होंने हमें साझेदारी का महत्व दिखाया। जिससे हमारे गेंदबाज दबाव में आ गए। पहले गेम में शिखर और विराट ने जिस तरह से बल्लेबाजी की वह बहुत अच्छी थी और आज ऋषभ ने जिस तरह से बल्लेबाजी की वह अच्छा था। स्पिनर अच्छा कर रहे हैं साथ ही शद्रुल ठाकुर भी। जसप्रीत हमारे लिए स्टैंडआउट गेंदबाज रहे हैं और युजी आज अच्छे रहे हैं। 

वहीं, टीम में बदलाव पर केएल राहुल ने कहा कि हमारी ऊर्जा बहुत अच्छी रही है। खास तौर पर बायोबबल में रहना कठिन है। हम चुनौतियों का सामना करते हैं लेकिन पहले 2 गेम में हमारी कोशिश रंग नहीं लाई। अब हम आगे देंखेंगे और कोशिश करेंगे कि आखिरी वनडे जीतें। यह कहना जल्दबाजी होगी कि अगले वनडे में टीम में बदलाव होगा या नहीं।

.
.
.
.
.