Sports

खेल डैस्क : भारतीय क्रिकेट टीम ने अपने 1000वें वनडे मैच को यादगार बनाते हुए विंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मैच में आराम से जीत हासिल कर ली। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेले गए मैच में रोहित शर्मा बतौर नियमित कप्तान उतरे थे। उन्होंने 10 चौके और एक छक्के की मदद से 60 रन बनाकर टीम को मजबूत शुरूआत दी।

ये भी पढ़े - किरोन पोलार्ड ने बताई हार की असली वजह, कहा- हमें सुधार करना होगा

ये भी पढ़े - लता मंगेशकर ने 2011 विश्वकप सेमीफाइनल मैच में भारत की जीत के लिए रखा था निर्जल व्रत

हालांकि टीम इंडिया के लिए विराट कोहली इस मैच में असफल रहे लेकिन मध्यक्रम में सूर्यकुमार यादव और दीपक हुड्डा ने मैच जितवाकर भारतीय बल्लेबाजी की मजबूत दिखा दी। मैच जीतने के बाद भारतीय कप्तान रोहित शर्मा काफी खुश दिखे। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि कुल मिलाकर सभी की ओर से बहुत अच्छा प्रयास हुआ। आखिरकार हम बॉक्स में टिक लगाने में कामयाब हुए।

ये भी पढ़े - कोच के पद से इस्तीफा देने के बाद बोले लैंगर, कहा- मेरे मूल्यों को कुछ ने बहुत सख्त समझा

ये भी पढ़े - भारत के पूर्व क्रिकेटर सुरेश रैना के पिता का निधन, कैंसर से हारे जंग

रोहित ने कहा कि अभी भी हमें बेहतर होने की जरूरत है। गेंदबाजी की अगर बात करूं तो मैं कोई क्रेडिट नहीं लेना चाहता। हमने जिस तरह से गेंदबाजी की, वह देखने लायक था। हम एक टीम के रूप में बेहतर होते रहना चाहते हैं। अंतिम लक्ष्य यह है कि हमें वह हासिल करने में सक्षम होना चाहिए जो टीम चाहती है। अगर टीम को हमसे कुछ अलग करने की जरूरत है, तो उसे करना ही होगा। यह मत सोचो कि हमें बहुत कुछ बदलना है। मैं खिलाडिय़ों से सिर्फ इतना कहता हूं कि खुद को चुनौती देते रहो। 

रोहित ने कहा कि अभी लंबी क्रिकेट खेलनी है। यहां नेट सेशन अच्छा रहा। मुझे इस खेल में अच्छे का भरोसा था। इस खेल से बहुत कुछ सकारात्मक लिया जा सकता है। पिच शुरुआत में नरम थी। ऐसे में टॉस जीतना अहम था। ईमानदारी से कहूं तो मैं टॉस को खेल से दूर कर देना चाहता हूं। मैं ज्यादा इस पर निर्भर नहीं रहना चाहता। लेकिन आप जब फैसला लेते हैं तो आप उसका फायदा उठाना चाहते हो। हमारे लिए यह आज सही से आया। 

.
.
.
.
.