Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) अध्यक्ष सौरव गांगुली सहित पूर्व क्रिकेटरों ने घरेलू क्रिकेट की हस्ती राजिंदर गोयल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्हें अपनी कला में माहिर खिलाड़ी करार दिया। बाएं हाथ के स्पिनर गोयल का उम्र संबधी बीमारियों के कारण रविवार को निधन हो गया था। वह 77 साल के थे। उनके परिवार में पत्नी और पुत्र नितिन गोयल हैं जो स्वयं प्रथम श्रेणी क्रिकेटर रहे हैं और घरेलू मैचों के मैच रेफरी हैं। 

Saddened to hear about the passing away of Rajinder Goel ji! He was a stalwart of Indian Domestic Cricket picking up more than 600 wickets in the Ranji Trophy.
May his soul Rest in Peace and my heartfelt condolences to his near and dear ones. 🙏🏼 pic.twitter.com/hqDoSsoL5y

— Sachin Tendulkar (@sachin_rt) June 22, 2020

दरअसल, तेंदुलकर ने उनके निधन पर ट्वीट किया, ‘राजिंदर गोयल जी के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं। वह भारतीय घरेलू क्रिकेट के दिग्गज थे जिन्होंने रणजी ट्राफी में 600 से अधिक विकेट लिए। मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं और उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। 

RIP #RajinderGoel ji. Master of his craft. Killer line & length in our terrain. Humility personified. Condolences to the entire family 🙏 pic.twitter.com/C3YJNPob1e

— Ravi Shastri (@RaviShastriOfc) June 21, 2020

भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने अपने ट्विटर पेज पर लिखा, ‘राजिंदर गोयल जी की आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना करता हूं। वह अपनी कला के माहिर थे। उनकी लाइन व लेंथ शानदार थी। वह बहुत अच्छे इंसान थे।' गोयल ने अपने जीवन में कभी इसकी शिकायत नहीं की और बेदी ने भी उन्हें संतोषी व्यक्ति बताया। 

 

Deeply saddened by the passing away of Shri Rajinder Goel, the highest wicket-taker in the history of Ranji Trophy. My heartfelt condolences to his family and loved ones. pic.twitter.com/6wIOfolnJc

— VVS Laxman (@VVSLaxman281) June 21, 2020

पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने ट्विटर पर लिखा, ‘रणजी ट्राफी के इतिहास में सर्वाधिक विकेट लेने वाले राजिंदर गोयल के निधन से बेहद दुखी हूं। उनके परिवार और प्रियजनों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना।' गांगुली ने बीसीसीआई के बयान में कहा, ‘भारतीय क्रिकेट समुदाय ने घरेलू क्रिकेट की हस्ती को गंवा दिया। उनके शानदार रिकार्ड इसके गवाह हैं कि वह अपनी कला में कितने माहिर थे। उनका करियर 25 साल से अधिक समय तक चला और वह लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे जिससे खेल के प्रति उनके समर्पण और प्रतिबद्धता का पता चलता है।  
 

 

 

.
.
.
.
.