Sports

कोलकाता : आदिल खान के आखिरी क्षणों में किये गये गोल की मदद से भारत ने फीफा विश्व कप क्वालीफायर मैच में मंगलवार को यहां बांग्लादेश को 1-1 से ड्रा पर रोका लेकिन इससे उसके क्वालीफाई करने की उम्मीदों को करारा झटका लगा है। कतर के खिलाफ पिछले मैच में गोलरहित ड्रा खेलने वाले भारत को इस मैच में जीत दर्ज करनी चाहिए थी लेकिन उसने गोल करने के कई मौके गंवाये और इस बीच बांग्लादेश को गोल करने का सुनहरा मौका भी प्रदान किया। इस मैच में भी अंक बांटने से भारत की ग्रुप ई में आगे की राह मुश्किल हो गयी है।


भारत तीन मैचों में दो अंक लेकर ग्रुप में चौथे स्थान पर है। बांग्लादेश को साद उदीन ने 42वें मिनट में बढ़त दिलाई थी लेकिन आदिल खान ने 89वें मिनट में बराबरी का गोल करके भारतीय टीम को शर्मसार होने से बचा दिया। इस तरह से भारतीय टीम का पिछले 20 वर्षों में बांग्लादेश पर जीत दर्ज करने का इंतजार बना रहा। उसने अपने इस पड़ोसी देश को आखिरी बार 1999 में सैफ खेलों में हराया था। इन दोनों टीमों के बीच पिछले तीन मैच बराबरी पर छूटे जबकि 2009 सैफ खेलों में बांग्लादेश जीत दर्ज करने में सफल रहा था।

भारतीय टीम के प्रदर्शन से कोच इगोर स्टिमक भी निराश होंगे क्योंकि पहले हाफ में वे रणनीति के अनुरूप आक्रामक रवैया नहीं अपना पाई जबकि इस बीच आपसी तालमेल नहीं होने के कारण उसने गोल गंवाया। राहुल भेके की बाएं छोर से लगायी गई फ्री किक को बांग्लादेश के कप्तान जमाल भुयां ने अपने कब्जे में किया। उन्होंने उसे भारतीय गोल की तरफ पहुंचाया लेकिन गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू उसे बाहर नहीं कर पाए और साद ने हेडर से गेंद गोल में पहुंचा दी। भारत ने दूसरे हाफ में अपनी पूरी ताकत गोल करने में लगा दी लेकिन हर बार उसे अंतिम क्षणों की चूक के कारण निराशा हाथ लगी।

इस बीच भारतीय टीम कम से कम तीन अवसरों पर गोल करने के बेहद करीब थी लेकिन उसे नाकामी हाथ लगी। ऐसे समय में जब भारतीय टीम पर हार का खतरा मंडरा रहा था तब आदिल ने महत्वपूर्ण गोल करके टीम को अंक दिलाया। सुनील छेत्री ने इससे ठीक पहले गोल करने का शानदार अवसर गंवाया था लेकिन आदिल ने ऐसी कोई गलती नहीं की। उन्होंने स्थानापन्न ब्रैंडन फर्नाडिस की कार्नर किक पर हेडर से गोल करके दर्शकों में जोश भरा जो बांग्लादेश का गोल होने के बाद काफी निराश थे। भारत अब 14 नवंबर को अफगानिस्तान और 19 नवंबर को ओमान से उनकी सरजमीं पर भिड़ेगा।

.
.
.
.
.