Sports

मुंबई : भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेले गये पहले एकदिवसीय मैच के दौरान यहां वानखेड़े स्टेडियम में छात्रों का एक समूह संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक पंजी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते दिखा। सफेद टी-शर्ट पहने इन छात्रों ने ‘नो , ‘नो एनपीआर’, और ‘नो एनपीसी’ का बैनल लिया था। ये छात्र हालांकि भारत की पारी खत्म होने से पहले स्टेडियम से निलक गए। ये छात्र ‘मुंबई अगेन्स्ट सीएए’ समूह से जुड़े थे।

इस समूह से जुड़े फवाद अहमद ने कहा कि इसमें 26 कुछ 26 लोग शामिल थे जो विजय मर्चेंट पवेलियन की तरफ बैठे थे। भारतीय टीम का विकेट जल्दी जल्दी गिरने लगा तब वे खुद ही मैदान से बाहर चले गए। सोशल मीडिया पर ऐसे खबरे आई कि काले कपड़ों में आए दर्शकों को स्टेडियम के सुरक्षाकर्मी अंदर आने से रोक रहे हैं लेकिन मुंबई क्रिकेट संघ की शीर्ष समिति ने दावा किया कि ऐसा कोई निर्देश नहीं जारी किया गया है। एमसीए के एक सदस्य ने कहा कि किसी भी रंग को लेकर कोई निर्देश नहीं दिया गया था, स्टेडियम के अंदर किसी भी प्रकार के पोस्टर लगाने की अनुमति नहीं थी क्योंकि यह स्थानीय पुलिस का निर्देश था।

.
.
.
.
.