Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली 32 साल के हो गए हैं। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ समकालीन बल्लेबाजों में से एक कोहली का जन्म 5 नवम्बर 1988 को नई दिल्ली में हुआ था। पिछले एक दशक में कोहली से ज्यादा प्रतिष्ठित खिलाड़ी शायद ही कोई रहा हो। उन्होंने 2008 में डेब्यू किया था और खुद को साबित करते हुए वह आज दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में जानें जाते हैं जिनका खेलने का अपना एक अलग अंदाज है। 

सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धोनी की तरह कोहली के भी चाहने वालों की लिस्ट काफी बड़ी है जो उन्हें काफी प्यार भी करते हैं। कोहली टेस्ट, वनडे और टी20 इंटरनेशनल में सबसे बढ़िया रेटिंग के साथ क्रमशः 937, 911 और 897 प्वाइंट्स पर हैं। जहां तक रिकाॅर्ड्स की बात है तो कोहली के नाम 42 शतक हैं और उनसे आगे  सिर्फ सचिन तेंदुलकर हैं जिनके वनडे में सबसे ज्यादा 49 शतक हैं। इसके साथ ही कोहली वनडे में सबसे तेज 8000, 9000, 10000 और 11000 रन बनाने वाले बल्लेबाज भी हैं। 

कोहली के 32वें जन्मदिन पर उनके करियर की 5 सबसे शानदार इनिंग्स को फिर से याद करते हुए इन पर एक नजर डालते हैं जिन्होंने कोहली को बल्लेबाज के रूप में शीर्ष तक पहुंचाया। 

1. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कोहली के लिए 2016 बेहतरीन सालों में एक रहा। उस समय वर्ल्ड टी20 वर्ल्ड कप भारत में खेला गया था। वह टूर्नामेंट में मैन ऑफ द सीरीज के रूप में उभरे लेकिन सुपर 10 मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनकी पारी याद रखने वाली रही। मोहाली में खेले गए इस टी20 मैच में भारत के सामने 161 रन का लक्ष्य है। भारत के 49 पर 3 विकेट गिर चुके थे और क्रीज पर कोहली और धमाकेदार ऑलराउंडर युवराज सिंह थे। इन दोनों चौथे विकेट के लिए 45 रन की साझेदारी की। युवराज के 94/4 रन पर आउट होने के बाद कोहली के खतरनाक रूप देखने को मिला और उन्होंने धोनी के साथ बेहतरीन पार्टनरशिप करते हुए अर्धशतकीय इनिंग खेली। हालांकि ये हाइएस्ट स्कोर नहीं था और इस मैच का अंत धोनी के शाॅट से हुआ था। लेकिन कोहली ये टूर्नामेंट भी उनके लिए कम नहीं था।  

2. कोहली का इंग्लैंड का 2014 का दौरा अच्छा नहीं रहा और उन्होंने मात्र 13.50 की औसत से रन ठोके थे। लेकिन जब वह 2018 में इंग्लैंड में खेले तो उन्होंने पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में 59.30 की औसत के साथ 593 रन ठोके थे। ये सीरीज भी कोहली के लिए यादगार रही। सीरीज का पहला टेस्ट जो बर्मिंघम में खेला गया था, में कोहली ने 149 रन की पारी खेली थी। इस दौरान कोई अन्य भारतीय खिलाड़ी 26 से ज्यादा रन नहीं बना सका। तीसरे टेस्ट में भी कोहली ने शानदार बल्लेबाजी की थी और 97 व 103 रन बनाए थे। हालांकि इस सीरीज में भारत को 1-4 से हार का सामना करना पड़ा था। 

3. कोहली 2014 में पहली बार टेस्ट में कप्तानी कर रहे थे और धोनी चोटिल होने की वजह से बाहर थे। लेकिन कोहली इस बार फिर ऑस्ट्रेलिया पर हावी रहे और एडिलेड में दो शतकीय पारियां खेली। पहली इनिंग में उन्होंने 115 रन बनाए और भारत ने 444 का स्कोर बनाया। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने 517/7 रन बनाकर पारी के अंत की घोषणा की। दूसरी इनिंग में ऑस्ट्रेलिया ने 290/5 बनाए थे। भारत को जीतने के लिए 362 रन की जरूरत थी और ऐसे में कोहली ने 141 रन की पारी खेली। 

PunjabKesari

4. साल 2012 में ढाका में भारत-पाकिस्तान के बीच एशिया कप के दौरान कोहली ने मैच विनिंग पारी खेली थी। पाकिस्तान ने इस मैच में 6 विकेट गंवाकर 329 रन बनाए थे। भारत ने लक्ष्य प्राप्ति के दौरान बिना रन बनाए ओपनर गौतम गंभीर का अहम विकेट खो दिया था। इसके बाद कोहली आए और उन्होंने पाकिस्तानी गेंदबाजों की नींद उड़ाते हुए 22 चौके और एक छक्के की मदद से अपने करियर की सबसे बेहतरीन पारियों में से एक खेली तथा 183 रन बनाए। इस मैच को भारत ने 48 ओवर में जीत लिया था।

5. कोहली ने साल 2012 में होबार्ट में सीबी सीरीज यादगार इनिंग खेली थी। कोहली ने दौरान 86 गेंदों पर 133 रन की पारी खेली जिससे भारत 37 ओवर में ही 321 रन बनाने में कामयाब रहा था। इस दौरान उन्होंने यार्कर स्पैशलिस्ट लसिथ मलिंगा को एक ओवर में 24 रन ठोके थे जो उनकी मलिंगा के खिलाफ सबसे श्रेष्ठ परफार्मेंस में से एक थी।  

कोहली के नाम दर्ज हैं ये खास रिकाॅर्ड 

2011 विश्व कप-विजेता
21,901 रन, इंटरनेशनल क्रिकेट में 70 शतक। 
टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक जीत दर्ज करने वाले भारतीय कप्तान 
टी20 इंटरनेशनल में (पुरुष) में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज

कोहली के करियर पर एक नजर 

गौर हो कि कोहली आईसीसी वनडे बल्लेबाजी रैंकिंग्स में टाॅप पर हैं। उन्होंने अब तक 248 वनडे मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम 11867 रन हैं। इसके साथ ही कोहली ने 86 टेस्ट मैचों में 7240 रन भी बनाए जिसमें उनका हाईएस्ट 254 रहा है। टी20 क्रिकेट में भी कोहली का बल्ला कम नहीं बोला और उन्होंने 82 मैचों में 2794 रन ठोके हैं। 

.
.
.
.
.