Sports

अबु धाबी : कोलकाता नाइट राइडर्स के पूर्व कप्तान गौतम गंभीर का मानना है कि फ्रेंचाइजी को आईपीएल 13 शुरु होने से पहले ही टीम का कप्तान बदलना चाहिए था। कोलकाता के कप्तान दिनेश कार्तिक शुक्रवार को अपने पद से यह कहते हुए हटे थे कि उन्हें अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करना है। कार्तिक की जगह इयोन मोर्गन को टीम का कप्तान नियुक्त किया गया था।

गंभीर का हालांकि मानना है कि मोर्गन टीम में ज्यादा बदलाव नहीं ला पाएंगे। कार्तिक पिछले ढाई साल से कोलकाता के कप्तान थे और उन्होंने इस सत्र में सात मुकाबलों में टीम का नेतृत्व किया जिसमें से कोलकाता को चार जीत मिली जबकि तीन मैचों में उसे हार का सामना करना पड़ा। मोर्गन की कप्तानी में कोलकाता का सामना मुंबई इंडियंस से हुआ जहां उसे आठ विकेट से हार का सामना करना पड़ा।

गंभीर ने कहा, ‘क्रिकेट रिश्तों का खेल नहीं है यहां प्रदर्शन करने की जरुरत है और ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं लगता कि मोर्गन काफी कुछ परिवर्तन ला पाएंगे। अगर वह टूर्नामेंट के शुरुआत में कप्तानी संभालते तो काफी बदलाव ला सकते थे। टूर्नामेंट के मध्य में कप्तान बदलने से फकर् नहीं पड़ता। कोच और कप्तान के बीच अच्छे रिश्ते रहना बेहतर है।'

उन्होंने कहा, ‘मैं फ्रेंचाइजी के इस फैसले से थोड़ा हैरान हूं। कार्तिक ने ढाई वर्षों तक कोलकाता का नेतृत्व किया है। टीम को सत्र के बीच में कप्तान बदलने की जरुरत नहीं थी। कोलकाता की स्थिति इतनी बुरी नहीं है कि उन्हें कप्तान बदलना पड़ जाए इसिलए मुझे इस फैसले से हैरानी है।' 

.
.
.
.
.