Sports
कोलकाता, 25 जुलाई (भाषा) प्रणति नायक की बचपन की कोच मिनारा बेगम ने दूसरा वॉल्ट नहीं करने के लिये अपनी शिष्या के इरादे पर सवाल उठाये जिससे वह रविवार को तोक्यो ओलंपिक की कलात्मक जिमनास्टिक्स स्पर्धा के फाइनल की दौड़ से बाहर हो गयी।

बंगाल की 26 साल की जिमनास्ट प्रणति ने वॉल्ट में 13.466 का स्कोर बनाया। मिनारा ने प्रणति को दूसरे वॉल्ट - हैंडस्प्रिंग फारवर्ड साल्टो 360 डिग्री टर्न - नहीं कराने के लिये तोक्यो साथ जाने वाले उनके कोच लक्ष्मण मनोहर शर्मा पर नाराजगी व्यक्त की।

पिछले रियो 2016 ओलंपिक में दीपा करमाकर खेलों के लिये क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय महिला जिमनास्ट बनी थीं और वह फाइनल में पदक से करीब से चूक गयी थीं। इस बार उम्मीदें प्रणति पर लगी हुई थीं।

मिनारा ने यहां पीटीआई से कहा, ‘‘प्रणति का आज सुबह तोक्यो में प्रदर्शन देखकर मेरी आंखों डबडबा गयीं। उस पर मेरी बरसों की मेहनत बेकार चली गयी। ’’
मिनारा ने कहा कि जिमनास्ट को फाइनल में पहुंचने का मौका बनाने के लिये दो वॉल्ट का प्रयास करना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘उसने सिर्फ सुकाहारा वॉल्ट किया और दूसरे का प्रयास भी नहीं किया। उसके टर्न भी पूरे नहीं थे, फ्लोर जंप भी स्तरीय नहीं थी। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘मैं उसका प्रदर्शन देखकर सचमुच परेशान हो गयी। कैसे कोच (शर्मा) ने उसे ऐसा करने दिया? केवल कोच ही ऐसे फैसले ले सकता है। ’’
मिनारा ने कहा, ‘‘ऐसा नहीं है कि वह हैंड्स्प्रिंग फारवर्ड के लिये तैयार नहीं थी, वह लंबे समय से यह करती रही है। लेकिन वह प्रयास किये बिना ही वापस आ गयी। ’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।
.
.
.
.
.