Sports
नयी दिल्ली, तीन जून (भाषा) भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) ने बुधवार को स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा के नाम की अनुशंसा देश के सर्वश्रेष्ठ खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न के लिये करने की पुष्टि की।

पीटीआई-भाषा ने पहले ही अपनी खबर में बताया था कि एएफआई ने लगातार तीसरे साल खेल रत्न के लिये चोपड़ा और अर्जुन पुरस्कार के लिये भारत की सबसे तेज धाविका दुती चंद का नाम चुना है।

दुती के अलावा अर्जुन पुरस्कार के लिये एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता अर्पिंदर सिंह (त्रिकूद) और मंजीत सिंह (800 मीटर) और मौजूदा एशियाई चैम्पियन पी यू चित्रा के नाम की सिफारिश की गयी है।

खेल मंत्रालय द्वारा गठित पैनल विभिन्न राष्ट्रीय महासंघों से मिले नामांकन की छंटनी करेगा और 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर इन्हें प्रदान किया जायेगा।

एएफआई के अध्यक्ष आदिले सुमरिवाला ने कहा, ‘‘हमें पूरा भरोसा है कि इस बार नीरज के नाम को मंजूरी मिल जायेगी क्योंकि 2018 में भारोत्तोलक मीराबाई चानू को और पिछले साल पहलवान बजरंग पूनिया को इस पुरस्कार के लिये चुना गया था। ’’
एएफआई ने विज्ञप्ति में कहा, ‘‘यह लोकप्रिय एथलीट 2021 ओलंपिक से पहले अपने प्रदर्शन के लिये इस पुरस्कार का हकदार है और इससे उसे और बेहतर करने की प्रेरणा मिलेगी। ’’
चोपड़ा ने स्थगित हुए तोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर लिया है। उन्हें 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के बाद उसी साल अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस साल उनके नाम की सिफारिश खेल रत्न के लिये की गयी थी। उन्होंने 2018 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।

अर्जुन पुरस्कार की सिफारिशों के संबंध में सुमरिवाला ने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि पुरस्कार चयन समिति इस बार पर विचार करेगी कि ‘ट्रैक एंड फील्ड’ महाद्वीप में भी काफी प्रतिस्पर्धी हैं। यह याद रखना भी महत्वपूर्ण होगा कि 2018 जकार्ता एशियाई खेलों में भारतीय खिलाड़ियों के लिये हासिल किये गये 70 में से 20 पदक एथलेटिक्स में आये थे जिसमें 16 स्वर्ण के आधे भी शामिल थे। ’’
उप मुख्य कोच राधाकृष्णन नायर के नाम की सिफारिश द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिये की गयी है। वहीं ध्यानचंद पुरस्कार के लिये कुलदीप सिंह भुल्लर और फर्राटा धावक जिन्सी फिलिप के नाम की अनुशंसा की गयी है।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।
.
.
.
.
.