Sports

नई दिल्ली : महिला हॉकी टीम की गोलकीपर सविता के मुताबिक 2016 रियो ओलंपिक में टीम के पास अनुभव की कमी थी लेकिन पिछले चार वर्षों में भारत एक प्रतिस्पर्धी टीम में बदल गया है और अगले साल के तोक्यो खेलों में उनके पास इतिहास रचने का अच्छा मौका होगा। भारतीय महिला हॉकी टीम ने 36 साल के अंतराल के बाद रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करके इतिहास रचा था। टीम की यह खुशी हालांकि ज्यादा लंबे समय तक बरकरार नहीं रही क्योंकि वे ग्रुप चरण से ही बाहर हो गए थे।

सविता ने कहा- मुझे लगता है कि उस समय हमारी टीम अनुभवहीन थी और हमने कुछ गलतियां की थीं। अब हमारे पास अधिक मजबूत टीम है और मुझे यकीन है कि हम रियो की असफलता को पीछे छोडऩे में कामयाब होंगे। ओलंपिक खेलों का अनुभव निश्चित रूप से तोक्यो में हमारे काम आएगा। 

इस 30 साल की गोलकीपर ने कहा-  मुझे लगता है कि हमारे पास तोक्यो ओलंपिक में इतिहास बनाने का शानदार मौका है। टीम में अनुभवी और युवा खिलाडिय़ों का शानदार मिश्रण है। हमने हाल के दिनों में शीर्ष टीमों के खिलाफ प्रतिस्पर्धा की है और हमें अपनी क्षमताओं पर दृढ़ विश्वास है। अगर हम अपनी क्षमता से खेलते हैं तो निश्चित रूप से अगले साल ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीतेंगे।

सविता ने कहा- हमारे लिए घरेलू दर्शकों के सामने एफआईएच ओलंपिक क्वालीफायर 2019 के जरिए तोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल करना शानदार था। वहीं, किसी भी खिलाड़ी के लिए ओलंपिक हमेशा शीर्ष टूर्नामेंट होगा। हम सभी का सपना न केवल प्रतियोगिता में भाग लेना है, बल्कि अपने देश के लिए पदक जीतना भी है। 2016 में रियो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करना शानदार था।

.
.
.
.
.