Sports

मुंबई : भारत के पूर्व कप्तान विराट कोहली ने 2011 विश्व कप फाइनल जीत को 11 साल पूरी होने पर याद किया। श्रीलंका के खिलाफ वानखेड़े स्टेडियम में हुए मुकाबले में वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर सस्ते में पवेलियन लौट गए थे, विराट जब क्रीज पर आ रहे थे तब वह भयंकर दबाव में थे। कोहली ने उक्त मैच में 49 गेंदों पर 35 रन बनाए थे। उन्होंने गौतम गंभीर (97) के साथ मिलर भारतीय पारी को संभाला था। 

Virat kohli, CWC 11, cricket world cup 2011, pressure, Team india, cricket news in hindi, sports news,  विराट कोहली, क्रिकेट विश्व कप 2011

ऐतिहासिक जीत के ठीक 11 साल बाद, कोहली ने रन चेज में लडख़ड़ाते हुए भारत के साथ बल्लेबाजी करने के लिए बाहर निकलने की भावना सुनाई। कोहली बोले- मुझे बल्लेबाजी करने के लिए चलने का दबाव याद है। 20 रन पर 2 विकेट गिर चुके थे। सचिन और सहवाग दोनों आउट हो गए। मैं अंदर जा रहा था ... सचिन पाजी ने मेरे साथ एक संक्षिप्त बातचीत की जब मैं अंदर गया। उन्होंने कहा- एक साझेदारी बनाओ। मैंने गौतम (गंभीर) के साथ 90 रन की साझेदारी की। मैंने 35 रन बनाए जो मेरे क्रिकेट करियर में सबसे मूल्यवान हैं। 

कोहली बोले- मुझे बहुत खुशी हुई कि मैं टीम को पटरी पर लाने का एक हिस्सा बना। मैं जो कुछ भी कर सकता था उसमें योगदान दिया। विश्व कप जीतने का रोमांच अविश्वसनीय था। वंदे मातरम, और जो जीता वही सिकंदर लोग गा रहे थे। यह वास्तविक क्षण था, जो आज तक हमारी यादों में ताजा है। 

Virat kohli, CWC 11, cricket world cup 2011, pressure, Team india, cricket news in hindi, sports news,  विराट कोहली, क्रिकेट विश्व कप 2011

कोहली ने इस दौरान तेंदुलकर को भावी विदाई देने पर भी बात की। उन्होंने कहा- तेंदुलकर ने 21 साल तक भारतीय क्रिकेट की सेवा की थी। उस रात हमने उन्हें कंधों पर उठाकर उनका शुक्रिया अदा किया। मुझे लगता है कि हम सभी ने भारतीय क्रिकेट में योगदान देने की कोशिश की लेकिन उनकी उपलब्धियां महान हैं।

.
.
.
.
.