Sports

मुंबई : गुजरात टाइटंस के तेज गेंदबाज़ मोहम्मद शमी ने कहा है कि वह सनराइजर्स हैदराबाद के युवा तेज़ गेंदबाज उमरान मलिक की तेज़ी से प्रभावित तो जरूर हैं, लेकिन उन्हें अभी और मेहनत करने की ज़रूरत है। शमी ने कहा कि मैं व्यक्तिगत रूप से पेस का बहुत बड़ा फैन नहीं हूं। 

शमी ने कहा कि पेस होना सही है लेकिन अगर आप 140 (किमी प्रति घंटा) की गति से भी दोनों तरफ़ गेंद को स्विंग करा सकते हैं, तो वह किभी भी बल्लेबाज को परेशान करने के लिए काफी होता है। इसलिए मैं कहूंगा कि अभी उमरान मलिक को परिपक्व होने में थोड़ा सा समय है। उसके पास गति जरूर है, लेकिन जैसे-जैसे वह मैच खेलता जाएगा, वह गति के साथ गेंदबाज़ी के लिए ज़रूरी अन्य चीज़ों को भी सीखता जाएगा।

शमी इस आईपीएल से निकल रही भारतीय युवा तेज गेंदबाजों की पीढ़ी से भी प्रभावित दिखे। उन्होंने कहा कि यह बहुत अच्छी बात है कि इस सीजन में कई युवा भारतीय तेज गेंदबाज पूरे आत्मविश्वास के साथ गेंदबाज़ी कर रहे हैं और कमाल का प्रदर्शन दे रहे हैं। एक तेज गेंदबाज़ के रूप में लगातार बेहतर होने के लिए आपको प्रतिभा के साथ-साथ मैच प्रैक्टिस भी चाहिए होती है। इस आईपीएल से इन युवा तेज गेंदबाजों को वह मैच प्रैक्टिस मिल रही है। वे सीनियर्स के साथ समय बिता रहे हैं और उनके अनुभवों से भी सीख रहे हैं। इस दौरान उन्होंने गुजरात के यश दयाल और साथ में अभ्यास कर चुके लखनऊ सुपर जायंट्स के मोहसिन ख़ान की भी तारीफ की। 

.
.
.
.
.