Sports

नई दिल्ली : पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शोएब अख्तर द्वारा हिंदू प्लेयर दानिश कनेरिया से भेदभाव का मुद्दा उठाने के बाद चल रहे विवाद में पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के एक बयान ने आग में घी डालने वाला काम कर दिया है। दरअसल, अफरीदी की एक चैट शो की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है जिसमें वह बता रहे हैं कि जब उन्होंने अपनी बेटी को टेलीविजन के सामने आरती करते हुए देखा तो उन्हें खूब गुस्सा आया था। इसी गुस्से में उन्होंने टीवी तोड़ दिया था।

चैट शो के दौरान महिला एंकर ने अफरीदी से पूछा था कि क्या कभी उन्होंने गुस्से में टीवी तोड़ा है, तो इसपर अफरीदी ने कहा कि हां, एक बार तोड़ा था। मैं घर पहुंचा था। तभी कमरे में जाकर देखा तो मेरी बेटी हाथ में थाली लिए घुमा रही थी। पता नहीं क्या करते हैं थाली ले के यूं यूं... मुझे यह देखकर बेहद गुस्सा आया और मैंने बाजू मारकर टीवी दीवार में घुसा दिया था। अफरीदी की इस बात पर स्टूडियो में बैठे लोग खूब तालियां पीटते हैं।
देखें वीडियो-

बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही शोएब अख्तर ने कहा था कि पाकिस्तान क्रिकेेट टीम में गैर मुस्लिम प्लेयरों के साथ भेदभाव होता था। उन्होंने कहा कि कनेरिया को लोग कहते थे कि तुम हिंदू हो, हमारे साथ खाना क्यों खाते हो। अख्तर के इस बयान के बाद दिनेश कनेरिया भी आगे आए थे। उन्होंने भी अख्तर के बयानों को सही बताया था। 

हालांकि शोएब अख्तर और दिनेश कनेरिया के आरोपों पर पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर जावेद मियांदाद सहमत नहीं हैं। उन्होंने एक चैनल के साथ इंटरव्यू में कहा कि अगर टीम में धर्म के नाम पर ऐसे भेदभाव होता तो कनेरिया 10 साल तक पाकिस्तान के लिए क्रिकेट नहीं खेल पाता। 
 

.
.
.
.
.