Sports

लखनऊ:  खराब फार्म से जूझ रही भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी साइना की नजरें मंगलवार से यहां शुरू हो रहे सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में घरेलू दर्शकों के सामने लय हासिल करने पर होगी जबकि युवा पुरुष खिलाड़ी लक्ष्य सेन सत्र का पांचवां खिताब जीतना चाहेंगे। तीन बार की पूर्व चैम्पियन साइना मौजूदा सत्र में बीमारी और चोटों से जूझ रही हैं जिसका असर उनके खेल पर भी दिखा है। इस सत्र के छह टूर्नामेंटों में वह पहले दौर से आगे नहीं बढ़ सकी। उनकी कोशिश निराशा को पीछे छोड़कर सत्र का समापन खिताब के साथ करने की होगी। 

PunjabKesari
हैदराबाद की 29 साल की यह खिलाड़ी अगले सत्र में खुद को तरोताजा रखने के लिए पहले ही प्रीमियर बैडमिंटन लीग (पीबीएल) से नाम वापस ले चुकी है। इस सुपर 300 टूर्नामेंट के पहले दौर में उनका सामना इंग्लैंड की क्लो बर्च से होगा। विश्व चैम्पियन पीवी सिंधु इस टूर्नामेंट में नहीं भाग नहीं ले रही हैं। इस साल स्कॉटिश ओपन, सारलोरलक्स ओपन, डच ओपन और बेल्जियम इंटरनेशनल जैसे टूर्नामेंटों में जीत दर्ज करने वाले 18 साल के लक्ष्य की कोशिश पहली बार सुपर 300 टूर्नामेंट जीतने की होगी। रविवार को स्काटिश ओपन का खिताब जीतने वाला यह भारतीय खिलाड़ी रैंकिंग में पहली बार शीर्ष 40 में जगह बनाने के करीब है। 

सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय के पहले दौर में उनका सामना फ्रांस के थामस रौक्सेल से होगा। महिला एकल में साइना के अलावा मुग्धा अग्रे भी भारतीय चुनौती पेश करेंगी, पहले दौर में उनका सामना बेल्जियम की लियान्ने तान से होगा। पुरूष एकल में 2016 के विजेता किदांबी श्रीकांत, गत चैम्पियन समीर वर्मा और विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले बी साई प्रणीत खिताब के प्रबल दावेदारो में होंगे। रूस के व्लादिमीर मालकोव के खिलाफ अपने अभियान को शुरू करने जा रहे श्रीकांत की कोशिश दो साल के खिताबी सूखे को खत्म करने की होगी। 

.
.
.
.
.