Sports

नेपियर: फार्म में चल रही स्मृति मंधाना और युवा जेमिमा रौद्रिगेज के शानदार प्रदर्शन के दम पर भारत ने न्यूजीलैंड को पहले एक दिवसीय क्रिकेट मैच में नौ विकेट से हराकर तीन मैचों की श्रृंखला में बढत बना ली। बाईस बरस की मंधाना ने 105 और 18 वर्षीय रौद्रिगेज ने नाबाद 81 रन बनाए। इससे पहले भारतीय गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड को 192 रन पर आउट कर दिया था। पिछले साल टीम के टी20 विश्व कप सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद भारत की यह पहली श्रृंखला है। भारतीय टीम ने पिछले विवादों को भुलाते हुए 33 ओवर में ही मैच जीत लिया।
PunjabKesari
आईसीसी वर्ष की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर का पुरस्कार जीतने वाली मंधाना ने अपना चौथा वनडे शतक जमाया। वहीं रौद्रिगेज का यह पहला अंतरराष्ट्रीय अर्धशतक है । भारतीय कप्तान मिताली राज ने मैच के बाद कहा, ‘यह शानदार शुरूआत है और सलामी जोड़ी को 100 रन से ऊपर की साझेदारी करते देखना अच्छा लगा। मंधाना लड़कियों के लिए रोल माडल है। उसने पिछले साल शानदार प्रदर्शन किया और लय कायम रखी है। इससे ड्रेसिंग रूम में आत्मविश्वास काफी बढा है।’
PunjabKesari
मंधाना और रौद्रिगेज ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले विकेट के लिए सर्वोच्च 190 रन की साझेदारी की। रौद्रिगेज का यह पांचवां अंतरराष्ट्रीय मैच ही है। मंधाना ने 104 गेंद की अपनी पारी में नौ चौके और तीन छक्के लगाए । रौद्रिगेज ने नौ बार गेंद को सीमारेखा तक पहुंचाया। इससे पहले न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी के लिए भेजे जाने पर अच्छा आगाज किया लेकिन उसे कायम नहीं रख सकी । एकता बिष्ट और पूनम यादव ने तीन तीन विकेट लेकर दबाव बनाये रखना । यादव ने कीवी कप्तान एमी सैटर्थवेट (31), लारेन डाउन (0) और अमेलिया केर (28) के विकेट लिए । सूजी बेट्स ने 38 और सोफी डेवाइन ने 28 रन की पारी खेली। अगला मैच 29 जनवरी को माउंट माउंगानुइ में खेला जाऐगा ।

खुशी है कि इस बार मैंने अपना विकेट इनाम में नहीं दिया : मंदाना  

PunjabKesarisports
भारतीय महिला टीम की सलामी बल्लेबाज स्मृति मंदाना को खुशी है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने अपना विकेट इनाम में नहीं दिया और एकदिवसीय श्रृंखला के पहले मैच में शतक जड़ा। मंदाना ने 104 गेंदों पर 105 रन बनाए जो उनका वनडे में चौथा शतक है। उन्होंने सलामी बल्लेबाज जेमिमा रोड्रिग्स (नाबाद 81) के साथ 190 रन की साझेदारी की जिससे भारत ने यह मैच नौ विकेट से जीता। भारत को जब केवल 3 रन की दरकार थी तब मंदाना आउट हो गई थी।
उन्होंने मैच के बाद कहा- मैं 70 या 80 रन के आसपास आउट हो रही थी इसलिए मैंने खुद से कहा कि गलत शाट मत लगाओ, हवा में कोई शाट नहीं खेलो और एक दो रन लेकर आगे बढ़ो। मैं ऐसा करने से वास्तव में खुश हूं। मंदाना ने कहा- मैं अपनी रणनीति पर कायम रही और टीम को जीत दिलाई। अगर मैंने तीन रन और बनाए होते तो मुझे और खुशी होती।

.
.
.
.
.