Sports

नई दिल्ली : भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के लचर प्रदर्शन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनके कुछ बल्लेबाज फ्रेंचाइजी को ‘सरकारी नौकरी' मानते हैं जिसमें प्रदर्शन के बिना भी पारिश्रमिक सुनिश्चित रहता है। 

कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ बुधवार को जीत के लिए 168 रन का पीछा करते समय शेन वाटसन की अर्धशतकीय पारी से बेहतर स्थिति में होने के बाद भी टीम पांच विकेट पर 157 रन ही बना सकी। यह पिछले पांच मैचों में टीम की चौथी हार थी।

PunjabKesari

सहवाग ने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल किया जाना चाहिए था। केदार जाधव और रविन्द्र जडेजा के डॉट गेंद खेलने से टीम को मदद नहीं मिली। उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि चेन्नई सुपर किंग्स के कुछ बल्लेबाज फ्रेंचाइजी को सरकारी नौकरी मानते हैं। आप प्रदर्शन करें या न करें, उन्हें पता है कि उन्हें अपना वेतन मिलेगा। 

PunjabKesari
 

.
.
.
.
.