Sports

नई दिल्ली : अर्जुन तेंदुलकर को अपने मशहूर उपनाम से जुड़ी उम्मीदों के बारे में पता है लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर चाहते है कि क्रिकेट में उभर रहे उनके बेटे के पास ‘हर सुबह उठकर अपने लक्ष्य का पीछा करने का कारण होना चाहिए’ चाहे जैसे भी हालात हो। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज अर्जुन मुंबई अंडर-19 का प्रतिनिधित्व करने के बाद भारत के लिए अंडर-19 स्तर पर दो टेस्ट मैच खेले है। वह ‘टी20 मुंबई’ के दूसरे सत्र में नीलामी के लिए मौजूद रहेंगे। सीनियर स्तर पर यह उनका पहला टूर्नामेंट होगा।

तेंदुलकर से जब पूछा गया कि क्या सीनियर स्तर पर करियर शुरू करने का यह सही तरीका होगा तो उन्होंने कहा कि यह ऐसा मौका है जिसका अर्जुन को फायदा उठाना होगा। तेदुलकर ने कहा, ‘यह ऐसा मंच है जहां मुझे लगता है कि लोग आप पर और आपके खेल पर नजर रखेंगे। अगर आप अच्छा प्रदर्शन करते है तो आप दुनिया के शिखर पर होंगे। तेंदुलकर को हालांकि लगता है कि अगर अर्जुन को सफलता नहीं मिलती है तो उनके लिए मौके खत्म नहीं होंगे। इससे वह और मजबूत बनेंगे।

उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए यह जरूरी है कि वह क्रिकेट को लेकर जूनूनी रहे और इस खेल से उसका लगाव बना रहे। इस दौरान अच्छा और बुरा दौर आएगा। उसके पास हर सुबह अपने सपनों के पीछे भागने की वजह होनी चाहिए।’

.
.
.
.
.