Sports

जालन्धर : विश्व कप 2019 में तीसरी बार मैन ऑफ द मैच बने रोहित शर्मा ने कहा कि पिच पर बल्लेबाजी करना अच्छा था। मुझे शुरुआत में बहुत अच्छा लग रहा था। हमने शुरू में कुछ समय लिया। फिर आंकलन किया कि हम कहां तक जा सकते हैं। यह विश्व कप में मेरे लिए अच्छा रहा। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले मैच की परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण थीं, इसलिए मुझे अपना समय निकालना पड़ा। इंग्लैंड के खिलाफ भी पिच पर दो बदलाव हुए थे और गेंद बल्ले पर नहीं आ रहा था। इंगलैंड ने धीमी गेंदों का अच्छी तरह से इस्तेमाल किया। लेकिन अब स्थिति अलग है। 

रोहित ने कहा कि जब आप पहले बल्लेबाजी के लिए मैदान पर उतरते हो तो आप पर स्कोरबोर्ड का कोई दबाव नहीं होता है। आप सकारात्मक होते हो। मैंने यही यहां पर किया। मैं भाग्यशाली था। वैसे भी भाग्य वीरों को ही सहारा देता है। मैं छोटी सीमा के बारे में कभी नहीं सोचता। मैं हमेशा फील्डिंग को भेदने की कोशिश करता हूं। इससे गेंदबाजों पर दबाव बनता है। 

रोहित ने कहा- मेरा मंत्र है जो कुछ अतीत में हुआ है, उसे अतीत में रखो। यह एक नया दिन है। मैं यह सोचने की कोशिश नहीं करता कि क्या हुआ है। यह टीम के दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण है। जो लोग अच्छी बल्लेबाजी कर रहे हैं, उन्हें आगे बढऩा चाहिए और टीम को अच्छे स्कोर तक लेकर जाना चाहिए।  मुझे अब अगले खेल पर ध्यान देने की जरूरत है।

.
.
.
.
.