Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे के लिए बीते दो वर्षों कठिन रहे हैं और उन्हें दक्षिण अफ्रीका दौरे से पहले टेस्ट में उप-कप्तानी की भूमिका से हटा दिया गया था। यह 33 वर्षीय खिलाड़ी पहले की तरह सुसंगत नहीं रहा जिस कारण वह टीम में भी अपनी जगह गंवाने के कगार पर हैं। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के दौरे में छह पारियों में सिर्फ 136 रन बनाए और 2021 उनके लिए सबसे कम स्कोर वाले वर्षों में से भी एक रहा। टेस्ट उप-कप्तानी से हटाए जाने के बाद अजिंक्य रहाणे का दर्द छलका है और उन्होंने कहा कि यह चयनकर्ताओं की कॉल थी। 

एक मीडिया हाउस के साथ बातचीत के दौरान जब रहाणे से पूछा गया कि क्या उप-कप्तानी में बदलाव से पहले उनसे सलाह ली गई थी? उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से चयनकर्ताओं का निर्णय था (रोहित को उप-कप्तान बनाना)। मेरे नियंत्रण में कुछ भी नहीं था। मैं उस फैसले का सम्मान करता हूं। रोहित वास्तव में अच्छा कर रहा है और अच्छी तरह से टीम का नेतृत्व कर रहा है। मैं रोहित के लिए खुश था। वहां तक ​​पहुंचने के लिए उन्होंने काफी क्रिकेट खेला। हम भी अच्छे दोस्त हैं। मैं रोहित के लिए बहुत खुश हूं। 

उन्होंने कहा कि मैं उस चीज के बारे में नहीं सोचता जो मेरे नियंत्रण में नहीं है। यह चयनकर्ताओं की कॉल थी। चयनकर्ताओं ने मुझे उप-कप्तान बनाया और उन्होंने मुझे कप्तान भी बनाया। रोहित को उप-कप्तान बनाना उनका फैसला था और मैं इसका पूरा सम्मान करता हूं। दक्षिण अफ्रीका से 1-2 से श्रृंखला हारने के बाद विराट कोहली ने कप्तानी छोड़ दी और एक नए कप्तान का नाम सामने आना बाकी है हालांकि रोहित इसके प्रबल दावेदार हैं। भारत-श्रीलंका घरेलू टेस्ट श्रृंखला के दौरान नए भारतीय टेस्ट कप्तान पर मोहर लगेगी। 

.
.
.
.
.