Sports

नई दिल्ली : आईसीसी ने बीते दिनों बैठक के दौरान जिम्बाब्वे और नेपाल की सदस्यता बहाल करने का फैसला लिया था। इससे नेपाल क्रिकेट संघ तो खुश है लेकिन साथ ही साथ उन्हें एक बड़ा झटका भी लगा है। दरअसल, नेपाल क्रिकेट प्रबंधन ने अपनी राष्ट्रीय टीम का जिस खिलाड़ी को कप्तान बनाया था उन्होंने 24 घंटे के अंदर ही अपने इस पद से इस्तीफा दे दिया है। यह खिलाड़ी है पारस खड़के जोकि नेपाल की ओर से खेलते हुए कई रिकॉर्ड भी बना चुका है। 
पारस खड़के का ट्विट-


यह जानकर बहुत अच्छा लगा कि नेपाल क्रिकेट का निलंबन हटा दिया गया है और वह नेपाल क्रिकेट, खिलाडिय़ों और इसके हितधारकों की बेहतरी के लिए काम करने के लिए नई समिति को शुभकामना देते हैं।
मैंने इसके बाद नेपाल क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में अपने पद से इस्तीफा देने का फैसला किया है।
जय नेपाल !!

खड़के का नेपाल की कप्तानी से पीछे हटना नेपाल क्रिकेट प्रबंधन के लिए एक झटके की तरह ही हैं। खड़के ने इस साल की शुरुआत में संयुक्त अरब अमीरात के खिलाफ नेपाल को पहली वनडे जीत दिलाई थी। इस मैच में उन्होंने सेंचुरी भी लगाई थी। 
बता दें कि 2016 में आईसीसी नियमों को तोडऩे पर नेपाल को निलंबित कर दिया गया था। उस पर आरोप था कि उन्होंने सरकारी हस्तक्षेप के बीच ‘स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव’ नहीं करवाए। इसके अलावा आईसीसी से मिली धन राशि को खेल पर नहीं लगाया। 

.
.
.
.
.