Sports

कराची : पाकिस्तान के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिसबाह उल हक (Misbah ul haq) ने चेताया कि अगर टेस्ट मैच को चार दिवसीय कर दिया जाता है तो तेज गेंदबाजों की चोटों का जोखिम भी बढ़ जाएगा। इस तरह वह भी उन खिलाडिय़ों की सूची में शामिल हो गए जिन्होंने आईसीसी के पारंपरिक प्रारूप में छेड़छाड़ के प्रस्ताव का विरोध किया था।

मिसबाह ने पीसीबी की वेबसाइट पर जारी वीडियो में कहा कि एक तेज गेंदबाज अब एक पारी में आमतौर पर 17 से 18 ओवर तक गेंदबाजी करता है लेकिन अगर 4 दिन का टेस्ट हो जाएगा तो उसके ऊपर गेंदबाजी का भार बढ़ जाएगा जो 20 से 25 ओवर तक हो जाएगा। इससे उसके चोटिल होने का जोखिम बढ़ जाएगा और सबसे अहम बात ज्यादा ओवर गेंदबाजी करने से उसकी गेंदबाजी की धार भी कम हो जाएगी।

उन्होंने कहा कि लोग मिशेल स्टार्क, नसीम शाह, कमिंस, जसप्रीत बुमराह जैसे गेंदबाजों को पूरी रफ्तार में गेंदबाजी करते हुए देखना चाहते हैं। अगर उन्हें ज्यादा ओवर गेंदबाजी करनी होगी तो उनकी रफ्तार में कमी आएगी। भारतीय कप्तान विराट कोहली, महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और आस्ट्रेलिया के महान क्रिकेटर रिकी पोंटिंग और स्टीव वॉ इस प्रस्ताव का विरोध कर चुके हैं।

.
.
.
.
.