Sports

मोनको : दिग्गज टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच कोरोना वायरस टीकाकरण से जुड़े विवाद को पीछे छोड़कर फिर से बड़े खिताब जीतने के लिये प्रतिबद्ध हैं। जोकोविच ने मोनाको में मोंटेकार्लो मास्टर्स क्लेकोर्ट चैंपियनशिप के पहले दिन कहा, ‘मुझे प्रतियोगिताओं में खेलने की कमी खल रही थी। मैं अब भी टूर में खेलने और प्रतिस्पर्धा करने तथा बड़े खिताबों के लिये विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को चुनौती देने के लिये प्रेरित हूं।' 

बीस ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने वाले जोकोविच ने 2022 में केवल एक टूर्नामेंट में हिस्सा लिया है। वह दुबई चैंपियनशिप में खेले थे जिसके क्वार्टर फाइनल में उन्हें जिरी वासेक से हार का सामना करना पड़ा था। जोकोविच जनवरी में आस्ट्रेलियाई ओपन में अपने खिताब का बचाव नहीं कर पाए थे। उन्होंने कोविड टीकाकरण नहीं किया था जिसके कारण उन्हें ऑस्ट्रेलिया से निष्कासित कर दिया गया था। इसी कारण से वह अमरीका का दौरा भी नहीं कर पाए और इस तरह से इंडियन वेल्स, कैलिफोर्निया और मियामी टूर्नामेंट में नहीं खेल पाये थे। जोकोविच ने घोषणा की थी कि वह प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए टीकाकरण नहीं करवाएंगे। 

जोकोविच के लिए 2022 का साल अभी तक उथल पुथल भरा रहा है। वह ऑस्ट्रेलियाई ओपन और कई अन्य टूर्नामेंट में नहीं खेल पाए जिस कारण फरवरी में कुछ समय के लिए उन्होंने दानिल मेदवेदेव से अपनी नंबर एक रैंकिंग गंवा दी थी। यही नहीं मार्च में जोकोविच ने अपने कोच मरियन वाजदा से संबंध तोड़ने की घोषणा की थी। वाजदा पिछले 15 वर्ष से उनके कोच थे। 

जोकोविच ने रविवार को कहा, ‘पिछले चार पांच महीने मेरे लिये मानसिक और भावनात्मक रूप से काफी चुनौतीपूर्ण रहे लेकिन मैं अब उन सब चीजों को पीछे छोड़कर यहां आया हूं और आगे बढ़ना चाहता हूं।' जोकोविच ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में जो कुछ हुआ उससे खिताब जीतने की उनकी क्षमता कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि इससे मुझ पर इतना गहरा असर पड़ा हो कि जिससे मुझे अभ्यास करने या टूर्नामेंट में भाग लेने या अपनी जिंदगी जीने में किसी तरह की परेशानी हो। मैं आगे की प्रतियोगिताओं में उसका उपयोग ऊर्जा के रूप में करूंगा।' 

.
.
.
.
.