Sports

PunjabKesari

नई दिल्ली ( निकलेश जैन ) भारत को यूं ही शतरंज का पावर हाउस नहीं कहा जाता यह बात एक बार फिर भारतीय युवा शतरंज खिलाड़ियों नें इसे साबित कर दिया तनाव और कठिन परिस्थियों को पार करते हुए फीडे ऑनलाइन कैडेट और यूथ शतरंज में तीन वर्गो में फाइनल पहुँचने वाले देश के तीनों खिलाड़ियों नें फाइनल जीतकर स्वर्ण पदक और विश्व खिताब हासिल कर लिए इसके मायने तब और भी बढ़ जाते है जब यह जीत चीन और रूस के खिलाड़ियों के खिलाफ आई है । 

PunjabKesari
सबसे पहले स्वर्ण पदक की खबर दी महिला इंटरनेशनल मास्टर रक्षिता रवि नें उन्होने चीन की सॉन्ग युकसिन को 1.5-0.5 से पराजित करते हुए विश्व खिताब हासिल कर लिया । दोनों के बीच पहला मुक़ाबला ड्रॉ रहा और दूसरे में रक्षिता नें जीत दर्ज कर फाइनल अपने नाम कर लिया । 

PunjabKesari
इसके बाद कमाल दिखाया निहाल सरीन नें और उन्होने अंडर 18 बालक वर्ग में एक बेहद तनाव भरे मैच में अर्मेनिया के शांत सरगसयान को 1.5-0.5 से मात देते हुए खिताब जीत लिया । चेसबेस इंडिया जूनियर टूर्नामेंट जीतने के बाद निहाल का यह लगातार दूसरा ऑनलाइन खिताब है और अगर बात करे विश्व खिताब की तो ऑनलाइन ओलंपियाड के बाद यह लगातार दूसरा विश्व स्वर्ण पदक है 

PunjabKesari
विश्व के दूसरे सबसे युवा ग्रांड मास्टर डी गुकेश नें अंडर 14 बालक वर्ग मे शानदार टाईब्रेक मुक़ाबला जीता उनके और रूस के मुरजिन वोलोदर के खितफ पहले दो मुक़ाबले कठिन स्थिति से ड्रॉ निकाले और उसके बाद टाईब्रेक अरमागोदेन मुक़ाबले को एकतरफा बनाते हुए जीत लिया और अब गए ऑनलाइन विश्व अंडर 14 चैम्पियन । 
भारत के 10 वर्षीय मृणमोय नें भी आज तीसरे स्थान के लिए हुए मुक़ाबले को जीतकर कांस्य पदक देश को दिला दिया और इस तरह भारत को कुल चार पदक हासिल हुए 

.
.
.
.
.