Sports

नई दिल्ली : नीदरलैंड महिला हॉकी टीम ने अपने देश में कोविड-19 के मामलों के बढ़ने के कारण भारत के खिलाफ भुवनेश्वर में 19 और 20 फरवरी को होने वाले एफआईएच (अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ) प्रो लीग मैचों से हटने का फैसला किया। नीदरलैंड में इस वायरस का ओमीक्रॉन प्रकार का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। रॉयल डच हॉकी एसोसिएशन (केएनएचबी) ने कहा कि उसने एफआईएच से मैचों को बाद की तारीख में स्थगित करने का अनुरोध किया है।

हॉकी इंडिया ने हालांकि गुरुवार को नीदरलैंड की टीम के इस फैसले पर आश्चर्य व्यक्त किया। नीदरलैंड के हॉकी संघ ने कहा कि  केएनएचबी की चिकित्सा समिति ने जनवरी में अंतरमहाद्वीपीय यात्रा से बचने की सलाह दी है। इस समिति की सलाह नीदरलैंड में ओमीक्रोन संक्रमणों की उच्च संख्या पर आधारित है। खिलाड़ियों के साथ आपसी विचार-विमर्श और परामर्श के बाद नीदरलैंड हॉकी के अधिकारियों ने घोषणा की कि वे इस सलाह का पालन करना चाहते हैं और इस समय भारत की यात्रा नहीं करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि भारत का प्रस्तावित दौरा छह दिनों का है लेकिन वहां पहुंचने के बाद किसी के कोविड-19 पॉजिटिव होने के बाद उसे लंबे समय तक पृथकवास में रहना पड़ सकता है। दूसरी ओर, हॉकी इंडिया ने इस कदम पर आश्चर्य व्यक्त किया। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोमबम ने कहा कि हॉकी इंडिया केएनएचबी चिकित्सा समिति की रिपोर्ट का हवाला देकर  नीदरलैंड के भारत दौरे को रद्द करने के फैसले से काफी हैरान है।

उन्होंने कहा कि भारत में कोविड-19 पॉजिटिविटी दर पांच प्रतिशत से नीचे आ गया है। हमने तीन महीने पहले उसी स्थान पर एफआईएच हॉकी पुरुष जूनियर विश्व कप के लिए 16 टीमों की सफल मेजबानी की है। हम उसी तरह के सुरक्षित बायो बबल में मैचों की सफलतापूर्वक मेजबानी करने के लिए आश्वस्त थे। 

.
.
.
.
.