Sports

मुंबई: भारतीय चयनकर्ता प्रमुख एमएसके प्रसाद ने एक बार फिर महेंद्र सिंह धोनी पर अपने विचार स्पष्ट करते हुए कह दिया है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड अब धोनी से आगे बढ़ चुका है और रिषभ पंत जैसे युवाओं को मौका पर उसका ध्यान है।  प्रसाद ने इंग्लैंड में हुये आईसीसी विश्वकप के बाद ही कह दिया था कि धोनी को संन्यास के बारे में विचार करने की जरूरत है। इसके बाद से ही पूर्व कप्तान भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर चल रहे हैं जबकि गुरूवार को बंगलादेश के खिलाफ सीरीज़ के लिए 15 सदस्यीय घोषित टीम इंडिया में भी धोनी की अनुपस्थिति ने उनके भविष्य को लेकर चर्चा एक बार फिर गरमा दी है। धोनी लगातार तीसरी सीरीज़ से बाहर हैं। 

धोनी टेस्ट से काफी पहले ले चुके हैं संन्यास
राष्ट्रीय चयनकर्ता प्रमुख ने टीम घोषणा के बाद संवाददाता सम्मेलन में यह भी कहा कि बोर्ड की टीम चयन से पूर्व धोनी से बातचीत हुई थी जिन्हें टीम में युवाओं को मौका दिये जाने की योजना के बारे में सूचित किया। प्रसाद ने साथ ही बताया कि खुद धोनी ने बोर्ड के युवाओं को आगे लाने के फैसले का समर्थन किया है। धोनी टेस्ट से काफी पहले संन्यास ले चुके हैं और इस साल जून में इंग्लैंड में वनडे विश्व कप खेलने के बाद से ही वह मैदान से बाहर हैं। प्रसाद ने यह तो नहीं कहा कि धोनी को हटाया गया है लेकिन उन्होंने कहा, हमारी स्पष्ट सोच यह है कि विश्व कप के बाद हम पूरी तरह ऋषभ पंत पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

हम भविष्य के लिए बना चुके हैं रोडमैप
जब उन्हें इस मुद्दे पर कई सवाल किए गए, तो प्रसाद ने कहा, मैंने विश्वकप के बाद ही कहा था कि हम आगे बढ़ रहे हैं। हम युवाओं को मौका दे रहे हैं ताकि वे खुद को टीम में स्थापित कर सकें। पंत अच्छा कर रहे हैं और संजू सैमसन बैकअप विकेटकीपर के रूप में टीम में आ गए हैं। मुझे लगता है कि अब आप समझ गए होंगे कि हमारी सोच क्या है। उन्होंने साथ ही कहा कि धोनी खुद भी युवाओं को समर्थन देने की बात करते हैं। यह पूछने पर कि क्या धोनी घरेलू क्रिकेट में लौटकर वापसी कर सकते हैं, प्रसाद ने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा, यह उनका व्यक्तिगत फैसला होगा। घरेल क्रिकेट में लौटना, अपनी फॉर्म हासिल करना या फिर संन्यास लेना, यह सब कुछ धोनी पर निर्भर करता है। हम भविष्य के लिए रोडमैप बना चुके हैं और जिस तरह हम टीम का चयन कर रहे हैं, उससे आपको यह बात दिखाई देगी।

.
.
.
.
.