Sports

मुंबई ( निकलेश जैन ) चेसबेस इंडिया द्वारा आयोजित बुद्धिबल ऑनलाइन फिशर रैंडम शतरंज का खिताब भारत के युवा इंटरनेशनल मास्टर मित्रभा गुहा नें अपने नाम कर लिया । मित्राभा गुहा ने अपराजित रहते हुए  9 राउंड मे 7 जीत और 2 ड्रॉ के साथ कुल 8.0 / 9 अंक बनाकर अपने खेल जीवन मे पहली बार फिशर रैंडम विजेता का ताज हासिल किया ।पेरू के इंटरनेशनल मास्टर टेरी रेनाटो, भारत के ग्रांड मास्टर रौनक साधवानी और इंटरनेशनल मास्टर अरोन्यक घोष ये तीनों खिलाड़ी  कुल 7.5 बना पाये  ऐसे मे टाई-ब्रेक स्कोर के अनुसार क्रमशः दूसरा ,तीसरा और चौंथा स्थान हासिल हुआ ।पांचवें से दसवें स्थान तक क्रमशः कजाकिस्तान के जकोंगीर वोखिदोव ,भारत के अभिमन्यु पौराणिक ,आर प्रग्गानंधा ,रूस के आन्द्रे दावेयटकिन ,भारत के वैभव सूरी और रूस के दुसान पोपोविक रहे  टूर्नामेंट में भारत सहित दुनिया भर के करीब 26  देशों के 30 ग्रांड मास्टर , 23 इंटरनेशनल मास्टर , 3 महिला ग्रांड मास्टर और 5 महिला इंटरनेशनल मास्टर  नें प्रतिभागिता की । चेसबेस इंडिया द्वारा प्लेचेस पर आयोजित यह तीसरा फिशर रैंडम टूर्नामेंट  था 


क्या है फिशर रैंडम – जब से शतरंज को आधिकारिक रूप दिया गया है तब से करीब 200 सालों से प्रामाणिक तौर पर मोहरो की शुरुआती स्थिति एक सी है मतलब इनके आधार पर ही शतरंज की ओपनिंग की सभी किताबे और तकनीक लिखी गयी है पूर्व विश्व चैम्पियन बॉबी फिशर नें शतरंज को रोचक बनाने के लिए फिशर 960 शतरंज की रचना की थी जिसमें हर मैच के बाद शतरंज के मोहरो की शुरुआती स्थिति बदल दी जाती है , बाकी शतरंज के सारे नियम मे कोई बदलाव नहीं किया जाता है 

.
.
.
.
.