Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: आस्ट्रेलिया ने सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) के खाली पड़े स्टेडियम में न्यूजीलैंड को शुक्रवार को यहां पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में 71 रन से हराकर तीन मैचों की श्रृंखला में शुरुआती बढ़त हासिल की। ऐसे में पहले वनडे होने के बाद न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज लॉकी फर्ग्यूसन (Lockie Ferguson) का कोरोना वायरस (Coronavirus) टेस्ट करवाया गया। जिसके बाद उन्हें टीम के अलग थलग कर दिया है। हालांकि अभी उनकी रिपोर्ट्स का इंतजार हो रहा है।  

लॉकी फर्ग्यूसन का कोरोना वायरस टेस्ट

PunjabKesari, Lockie Ferguson
दरअसल, न्यूजीलैंड क्रिकेट ने शुक्रवार को कहा, ‘स्वास्थ्य संबंधित प्रोटोकाल के अनुसार फर्गुसन को पहले वनडे के खत्म होने के बाद गले में दर्द की शिकायत के बाद अगले 24 घंटे के लिए टीम होटल में अलग रखा गया है। इसके अनुसार, ‘एक बार परीक्षण का नतीजा आ जाए और उनकी जांच हो जाये तो टीम में उनकी वापसी तय होगी।' वही क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने कोरोना वायरस महामारी के कारण दर्शकों को स्टेडियम में आने से रोक दिया था। ऐसे में खिलाड़ियों ने खाली स्टेडियम में ही अपनी उपलब्धियों का जश्न मनाया। हालांकि यही नहीं आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज केन रिचर्डसन को बीमार होने के कारण अलग थलग रखा गया था। उनका कोरोना वायरस के लिए परीक्षण किया गया लेकिन उनकी रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई और वह अपने साथियों से मिलने वापस मैदान में पहुंचे। 

आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड पहला वनडे मैच का नतीजा 

PunjabKesari, Lockie Ferguson
आपको बता दें अगर मैच में नजर डाले तो आरोन फिंच के टाॅस जीतकर पहले बल्लेबाजी के फैसले के बाद आस्ट्रेलिया एक समय 300 से अधिक स्कोर बनाने की स्थिति में दिख रहा था। डेविड वार्नर (67) और फिंच (60) ने पहले विकेट के लिये 124 रन जोड़े लेकिन इन दोनों के आउट होने के बाद न्यूजीलैंड ने मार्नस लाबुशेन की 52 गेंदों पर 56 रन की पारी के बावजूद आस्ट्रेलिया को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया। न्यूजीलैंड के पास श्रृंखला में 1-0 से बढ़त लेने का मौका था लेकिन आस्ट्रेलिया की शानदार गेंदबाजी के सामने उसके बल्लेबाज नहीं चल पाए। न्यूजीलैंड ने नियमित अंतराल में विकेट गंवाए। उसकी तरफ से मार्टिन गुप्टिल ने सर्वाधिक 40 रन बनाए। आस्ट्रेलिया के लिए यह जीत मनोबल बढ़ाने वाली रही क्योंकि उसने दक्षिण अफ्रीका और भारत के हाथों अपने पिछले पांच वनडे मैच गंवाए थे।

.
.
.
.
.