Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 5 मैचों की टी20 इंटरनेशनल सीरीज का पहला मैच 6 विकेट से जीत लिया है। फार्म में चल रहे विकेटकीपर बल्लेबाज केएल राहुल (KL Rahul) ने एक बार फिर शानदार प्रदर्शन करते हुए 56 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। उनके लगातार प्रदर्शन के बाद युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) पर भी दबाव बन रहा है। इस पर जब केएल राहुल से सवाल किया तो उन्होंने भी अपनी राय रखी है। 

ऋषभ पंत की वापसी होगी या नहीं 

Rishabh Pant photo, Rishabh Pant image, Rishabh Pant pic

मैच के बाद प्रेस वार्ता के दौरान जब केएल राहुल से पंत के प्लेइंग इलेवन में होने को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने इस पर जवाब देते हुए कहा कि ये मेरे हाथ में नहीं है। पंत के लगातार खराब प्रदर्शन के बाद ऑस्ट्रेलिया सीरीज के दौरान केएल राहुल को विकेटकीपर के तौर चुना गया और ये फैसला टीम इंडिया के लिए सही साबित भी हुआ। राहुल ने ना सिर्फ विकेटकीपिंग में अच्छा प्रदर्शन किया बल्कि बैटिंग के दौरान भी उनका बल्ला बोला था। 

केएल राहुल की शानदार पारी 

वहीं अपनी पारी के बारे में जब राहुल से पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो मुझ यह अच्छा लग रहा है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह नया लग सकता है लेकिन मैं पिछले 3-4 वर्षों से अपनी आईपीएल फ्रैंचाइजी के लिए यह काम कर रहा हूं। जब भी मौका मिलता है तो मैं अपनी प्रथम श्रेणी की टीम के लिए यह करता रहता हूं। मैं विकेटकीपिंग का अभ्यास करता रहता हूं।

केएल राहुल की विकेट कीपिंग 

KL Rahul photo, KL Rahul images, KL Rahul pic

उन्होंने कहा, ‘मुझे विकेट के पीछे रहना पसंद है क्योकि इससे पिच का अंदाजा मिल जाता है। मैं इससे जुड़ी जानकारी गेंदबाजों और कप्तान को देता हूं और कप्तान उसी मुताबिक क्षेत्ररक्षण लगाते हैं।' राहुल ने कहा, ‘एक बल्लेबाज के तौर पर भी 20 ओवर तक कीपिंग करने के बाद आपको अंदाजा हो जाता है कि पिच पर कैसा शाट खेलना है। मैं इस जिम्मेदारी का लुत्फ उठा रहा हूं।' 

केएल राहुल की पारी से भारतीय टीम की जीत 

PunjabKesari, KL Rahul photo, KL Rahul images, KL Rahul pic

गौर हो कि राहुल ने आज ईडन पार्क, ऑकलैंड में खेले गए सीरीज के पहले टी20 इंटनेशनल मैच के दौरान ओपनिंग की और 27 गेंदों पर 4 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 56 रन बनाए। उनकी इस पारी की बदौलत टीम को न्यूजीलैंड से मिले 204 रन के लक्ष्य को भेदने में भी मदद मिली। 

.
.
.
.
.