Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : इंगलैंड क्रिकेट में ऐसे बहुत सारे प्लेयर आए जो बहुत थोड़े समय के लिए खेले लेकिन जितना भी खेले अपना नाम बढ़ा कर गए। ऐसा ही एक प्लेयर है जोनाथन ट्रॉट। ट्रॉट ने अगस्त 2009 में ही डैब्यू किया था और 2015 में उन्होंने आखिरी टेस्ट खेला। 6 सालों के दौरान ही उन्होंने इंगलैंड के लिए 52 टेस्ट खेलकर 44 की औसत से 3835 रन बनाए। ट्रॉट जब क्रिकेट से अलग हुए तो इसके पीछे कारण उन्होंने पारिवारिक बताया था।

ट्रॉट के नाम पर एक यूनीक रिकॉर्ड भी है। शुद्ध बल्लेबाज के तौर पर ट्रॉट टेस्ट क्रिकेट में एक भी छक्का नहीं लगा पाए। उनके नाम 9 शतक और 19 अर्धशतक जरूर दर्ज हैं लेकिन वह कभी बॉल को बाऊंड्री रोप से बाहर भेजने में सफल नहीं हो पाए। जोनाथन ने जब वनडे क्रिकेट छोड़ा तो उनकी औसत 51 के पार थी। अगर लिस्ट ए का उनका रिकॉर्ड देखा जाए तो वह विराट कोहली को टक्कर देते हुए नजर आते हैं। 270 लिस्ट ए मैचों में जोनाथन के नाम पर 23 शतक और 67 अर्धशतक की मदद से 10056 रन दर्ज है। 

जोनाथन के 281 फस्र्ट क्लास श्रेणी के मैचों में 18662 रन हैं। इसमें 46 शतक और 92 अर्धशतक भी शामिल है। 2015 में प्रत्येक खिलाड़ी की तरह जोनाथन के करियर में भी उतार आया था इससे उभरने की बजाय उन्होंने संन्यास को ही तरजीह दे दी।  6 फीट के इस इंग्लिश क्रिकेट ने 2018 में वार्कविकशायर की ओर से अपना आखिरी फस्र्ट क्लास मैच खेला था और पूर्णत: रिटायरमैंट ले ली थी।

.
.
.
.
.