Sports

बर्मिंघम : मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ विश्वकप मुकाबले में मिली 31 रन की हार के बाद सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा है कि भारत को इंग्लैंड के गेंदबाजों से सीख लेने की जरुरत है। भारत को रविवार इंग्लैंड के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था। रोहित ने इस मुकाबले में शानदार पारी खेलते हुए 102 रन बनाए और इस विश्वकप में अपना तीसरा शतक बनाया। इस विश्वकप में भारत की यह पहली हार है। भारत की हार के साथ ही मेजबान इंग्लैंड ने सेमीफाइनल की अपनी उम्मीदों को बरकरार रखा है। हालांकि उसे ग्रुप चरण के अपने आखिरी मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ हर हाल में जीत दर्ज करनी होगी। 

रोहित ने कहा, ‘इंग्लैंड ने पूरे मैच में बेहतरीन प्रदर्शन किया। उन्होंने एक नहीं बल्कि तीन मजबूत साझेदारियां की जबकि हमारी टीम सिर्फ एक बड़ी साझेदारी ही कर सकी। इंग्लैंड के गेंदबाजों ने शॉर्ट बॉल और धीमी गेंदबाजी की और हमें बड़े शॉट्स खेलने को मजबूर किया जिससे हम अपने विकेट गंवा बैठे। हमें अगले मैच में इससे सीख लेनी होगी।' भारत ने 338 के लक्ष्य का पीछा करते हुए लोकेश राहुल का विकेट जल्द ही खो दिया था लेकिन इसके बाद रोहित ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर भारतीय पारी को संभाला और दोनों ने दूसरे विकेट लिए 138 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी की।

PunjabKesari

रोहित ने कहा, ‘जल्द ही विकेट गंवाने से दबाव बढ़ता है और हमने राहुल का विकेट शुरुआत में ही खो दिया था। इंग्लैंड ने शुरु के 10 ओवरों में काफी शानदार गेंदबाजी की।' रोहित और विराट के आउट होने के बाद भारतीय पारी संभल नहीं सकी। हालांकि हार्दिक पांड्या ने रिषभ पंत के साथ मिलकर कुछ बड़े शॉट्स खेलने की कोशिश की लेकिन वह भी ज्यादा देर नहीं टिक सके। इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव ने अंत के पांच ओवरों में धीमी पारी खेली और टीम लक्ष्य का पीछा कर पाने में नाकाम रही। 

PunjabKesari

भारतीय उपकप्तान ने कहा, ‘जब धोनी और जाधव बल्लेबाजी कर रहे थे तो मुझे लगा कि वे बड़े शॉट्स लगाएंगे लेकिन वह ऐसा नहीं कर सके क्योंकि पिच काफी धीमी थी। लेकिन इस जीत का श्रेय इंग्लैंड को जाता है जिन्होंने माहौल का पूरी तरह फायदा उठाया और बड़े शॉट्स लगाने में कामयाब रहे।' हालांकि भारतीय टीम के कप्तान विराट बर्मिंघम के मैदान से खुश नहीं थे। उन्होंने कहा कि मैदान के एक तरफ की बाउंड्री शार्ट थी जिससे टॉस काफी अहम साबित हुआ। विराट ने कहा, ‘टॉस का रोल काफी अहम था विशेषकर उस परिस्थिति में जब बाउंड्री शाटर् हो।'

.
.
.
.
.