Sports

नई दिल्ली : तीरंदाजी में भारत पिछले 33 वर्षों से अपनी किस्मत आजमा रहा है लेकिन विश्व कप में चमक बिखेरने वाले कई खिलाड़ी ओलिम्पिक में जीत नहीं पाए। इस बार दीपिका कुमारी पर सब की नजरें हैं। आइए जानते हैं ओलिम्पिक में भारतीय तीरंदाजी के इतिहास के बारे में।

दीपिका कुमारी

India at Tokyo Oympics, Archery Expectations, तीरंदाजी, Deepika Kumari, Indian Olympic history, Tokyo olympics, Tokyo 2020
13 जून 1994
रांची

उपलब्धियां
वर्ल्ड चैम्पियनशिप में 2 सिल्वर
कॉमनवैल्थ 2010 में दो गोल्ड
एशियन गेम्स 2010 में ब्रॉन्ज
एशियन आर्चरी चैम्पियनशिप 1 गोल्ड, 2 सिल्वर, 3 ब्रॉन्ज

पिता ऑटोरिक्शा चलाते थे, मां नर्स थी
रांची में जन्मी दीपिका का बचपन गरीबी में बीता। पिता शिवनारायण महातो ऑटो रिक्शा ड्राइवर थे जबकि मां गीता नर्स थीं। 2012 में पहली बार वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर 1 होने पर दीपिका चर्चा में आई थी। वह 2 ओलिम्पिक खेल चुकी हैं। दीपिका ने हाल में विश्व कप के तीसरे चरण में व्यक्तिगत रिकर्व, युगल और टीम स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीते थे। दीपिका ने बीते साल ही तीरंदाज अतनु दास के साथ शादी की। अतनु भी टोक्यो ओलिम्पिक जा रहे हैं।

तरुणदीप राय

India at Tokyo Oympics, Archery Expectations, तीरंदाजी, Deepika Kumari, Indian Olympic history, Tokyo olympics, Tokyo 2020
22 फरवरी 1984
नचमी, सिक्किम

उपलब्धियां
वर्ल्ड चैम्पियनशिप में 2 सिल्वर
एशियन गेम्स में 1 सिल्वर, 1 ब्रॉन्ज
एशियन आर्ची चैम्पियनशिप 2 ब्रॉन्ज

अतनु दास

India at Tokyo Oympics, Archery Expectations, तीरंदाजी, Deepika Kumari, Indian Olympic history, Tokyo olympics, Tokyo 2020
5 अप्रैल 1992
बाड़ानगर, वैस्ट बंगाल

विजेता
वर्ल्ड यूथ चैम्पियनशिप में एक सिल्वर, एक ब्रॉन्ज
वल्र्ड कप में 2 गोल्ड, 2 सिल्वर, 3 ब्रॉन्ज
एशियन आर्चरी चैम्पियनशिप में 3 ब्रॉन्ज

प्रवीण जाधव

India at Tokyo Oympics, Archery Expectations, तीरंदाजी, Deepika Kumari, Indian Olympic history, Tokyo olympics, Tokyo 2020
6 जुलाई 1996
सितारा, महाराष्ट्र

उपलब्धि
वर्ल्ड चैम्पियनशिप में सिल्वर

-------

ओलिम्पिक में तीरंदाजी
तीरंदाजी में अब तक दक्षिण कोरिया का दबदबा रहा है और फिर से वह इस खेल में शीर्ष पर रहने की कोशिश करेगा। दक्षिण कोरिया ने अब ओलिम्पिक तीरंदाजी में 23 स्वर्ण पदक सहित कुल 39 पदक जीते हैं। उसके बाद अमेरिका (14 स्वर्ण) और बेल्जियम (11 स्वर्ण) का नंबर आता है। बेल्जियम ने अपने सभी पदक 1900 से 1920 के बीच जीते थे।

तीरंदाजी का भारतीय इतिहास

India at Tokyo Oympics, Archery Expectations, तीरंदाजी, Deepika Kumari, Indian Olympic history, Tokyo olympics, Tokyo 2020

भारत के कुल 21 तीरंदाजों (13 पुरुष, 8 महिला) ने 1988 से 2016 तक ओलिम्पिक खेलों में भाग लिया है। भारत ने पहली बार 1988 में सियोल ओलंपिक खेलों में तीरंदाजी में हिस्सा लिया। लिम्बा राम, संजीव सिंह और श्याम लाल ओलिम्पिक खेलों में भाग लेने वाले पहले भारतीय तीरंदाजों में शामिल थे। लिम्बा राम ने बार्सिलोना ओलिम्पिक 1992 और अटलांटा ओलिम्पिक 1996 में भी भाग लिया था। बार्सिलोना में वह केवल एक अंक से कांस्य पदक से चूक गए थे। एथेन्स ओलंपिक 2004 में पहली बार तीन भारतीय महिला तीरंदाजों डोला बनर्जी, रीना कुमारी और सुमंगला शर्मा ने हिस्सा लिया था। मंगल सिंह चंपिया बीजिंग ओलिम्पिक 2008 में पुरुष एकल के फाइनल्स के दूसरे दौर तक पहुंचे थे। रियो ओलिम्पिक 2016 में अतनु दास ने पुरुष एकल के फाइनल में जगह बनाई थी। महिला एकल में दीपिका कुमारी और लेशराम बोम्बायला देवी नौवें स्थान पर रही थी।

ऐसी है हमारी टीम
मैंस सिंगल और टीम :
अतनु दास, प्रवीण जाधव, तरुणदीप राय
वुमन सिंगल : दीपिका कुमारी
मिक्सड टीम : अतनु दास और दीपिका कुमारी

.
.
.
.
.