Sports

दुबई : भारतीय महिला टी-20 टीम की कप्तान और हरफनमौला खिलाड़ी हरमनप्रीत कौर ने लंबे समय बाद संयुक्त अमीरात अरब (यूएई) में महिला टी-20 चैलेंज का मुकाबला खेलने के बाद पिछले छह महीने याद करते हुए कहा कि बीते छह महीनों ने उन्हें सिखाया कि जीवन को प्रतिदिन किस तरह से जिया जाता है। कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण लम्बे समय से भारतीय महिला टीम की खिलाडिय़ों ने कोई भी मैच नहीं खेला है। टीम ने अपना आखिरी मुकाबला आठ मार्च को महिला विश्व कप के दौरान खेला था जिसमे उसे फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा था।

हरमनप्रीत ने कहा- हम भारतीय खिलाड़ियों को फिलहाल क्रिकेट खेलने के जो भी मौके मिल रहे हैं, मैं पूरा लुत्फ़ उठाना चाहती हूं। कोरोना महामारी के कारण क्रिकेट से सात महीनों तक दूर रहने के बाद मुझे पता चला कि हर ऐसे अवसर की सराहना करनी चाहिए जो हमारे रास्ते में आता है। उन्होंने कहा- टूर्नामेंट में सुपरनोवास की कप्तान होने के नाते मैं निश्चित तौर पर महिला टी-20 चैलेंज की ट्रॉफी इस वर्ष भी जीतना चाहती हूं। टूर्नामेंट जीतने की ख़ुशी से बढ़कर कोई अन्य ख़ुशी नहीं हैं।

दक्षिण अफ्रीका की तेज गेंदबाज अयाबोंगा खाका हमारी टीम में शामिल हैं। हमारी पूरी विदेशी टुकड़ी बहुत अच्छी है और युवा भारतीय खिलाड़ी भी बहुत अच्छे हैं। दिल्ली की आयुषि सोनी एक होनहार युवा खिलाड़ी हैं। मुझे लगता है कि हमारे पास एक टीम है जो एक अच्छी लड़ाई लड़ सकती है और सुपरनोवास लगातार तीसरी बार टी-20 चैलेंज ट्रॉफी जीत सकती है।

.
.
.
.
.