Sports

पंचकुला : हरियाणा के पंचकुला में आयोजित खेलो इंडिया यूथ गेम्स का पहला स्वर्ण एक चाय वाले की बेटी ने जीत लिया है। 3 साल पहले तक काजोल सरगार का खेलों से सिर्फ इतना रिश्ता था कि वह अपने भाई संकेत को वेटलिफ्टिंंग की ट्रेनिंग करते हुए देखने के लिए एक स्थानीय जिम्नेजियम तक जाती थीं। महाराष्ट्र के सांगली से आने वाली काजोल ने अपने भाई को भारत का शीर्ष वेटलिफ्टर बनते हुए भी देखा, लेकिन इससे भी उन्हें खेलों की तरफ आने की प्रेरणा नहीं मिली। फिर एक दिन 2019 में, जब उन्होंने सांगली से ही आने वाली रूपा हांगंडी को पुणे के खेलो इंडिया यूथ गेम्स में स्वर्ण जीतते हुए देखा, और तब से काजोल के लिए सब बदल गया।

काजोल सरगार ने रविवार को यहां खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021 में पहली स्वर्ण पदक विजेता बनने के बाद कहा- मेरा भाई मुझसे पांच साल बढ़ा है। मैंने उसके साथ पहले कभी खेल की बात नहीं की। उन्होंने कहा- खेलो इंडिया यूथ गेम्स में रूपा हांगंडी की सफलता के बारे में जानने के बाद ही मुझे लगा कि मुझे भारोत्तोलन का भी प्रयास करना चाहिए।

Chaiwala daughter, first gold, Khelo India 2021, Sports news, Kajol Sargar, चायवाला बेटी, पहला गोल्ड, खेलो इंडिया 2021, स्पोर्ट्स न्यूज, काजोल सरगार

मयूर सिंहसाने के नेतृत्व में प्रशिक्षण ले रही काजोल ने महिलाओं के 40 किग्रा वर्ग में कुल 113 किग्रा भार उठाकर महाराष्ट्र के पदक तालिका में शीर्ष की ओर बढऩे की तरफ कदम बढ़ाया। काजोल स्नैच में केवल 50 किग्रा ही हासिल कर सकीं और तीसरे प्रयास में असम की रेखामोनी गोगोई से पीछे रह गईं, जिन्होंने क्लीन एंड जर्क में उनसे दो किलोग्राम ज़्यादा वजन उठाया। इसके बाद रूपा क्लीन एंड जर्क में 60 किग्रा और 63 किग्रा भार उठाकर पोडियम के शीर्ष पर पहुंच गई।

रेखामोनी (109 किग्रा; 52 किग्रा स्नैच, 57 किग्रा क्लीन एंड जर्क) तीसरे स्थान पर खिसक गईं और अरुणाचल प्रदेश की सांडिया गुंगली ने कुल 111 किग्रा (47 किग्रा स्नैच, 63 किग्रा क्लीन एंड जर्क) के साथ रजत पदक जीता। काजोल ने अगस्त 2021 में पटियाला में यूथ नेशनल में कांस्य पदक जीता था, लेकिन इस साल की शुरुआत में कलाई की चोट के कारण वह इस वर्ष के अपने लक्ष्यों पर फिर से काम करने के लिए मजबूर हो गईं।

काजोल ने कहा- मैं प्रशिक्षण के दौरान 70 किग्रा उठाने की कोशिश कर रही थी और चोटिल हो गई। मैं 2 महीने से अधिक समय तक एक्शन से बाहर रही और यहां तक कि मार्च में भुवनेश्वर में नेशनल से भी चूक गई। यह खिताब मेरी 3 साल की यात्रा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है और मुझे अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित करेगा।

.
.
.
.
.