Sports

नई दिल्ली : भारतीय महिला टी-20 टीम की कप्तान और विस्फोटक बल्लेबाज हरमनप्रीत कौर का कहना है कि ऑस्ट्रेलिया के घरेलू टूर्नामेंट बिग बैश लीग में खेलने से उनकी मानसिकता में काफी बदलाव आया है। हरमनप्रीत भारतीय महिला टीम की पहली खिलाड़ी थी जिन्होंने इस टी-20 लीग में सिडनी थंडर की तरफ से हिस्सा लिया था। हरमनप्रीत का मानना है कि इसमें हिस्सा लेने से फिटनेस और ट्रेनिंग क्षमता के मापदंड में भी काफी बदलाव आया है।

PunjabKesari

हरमनप्रीत ने कहा- बिग बैश में खेलने से काफी बदलाव आया है। मैं यह कह सकती हूं कि पहले की तुलना में मेरी मानसिकता में बड़ा बदलाव आया है। मुझे नहीं पता कि हम पहले क्यों अपनी सुविधा के हिसाब से खेलते थे और सुविधानुसार स्कोर करते थे। लेकिन बिग बैश ने मेरे अनुभव को पूरी तरह बदल दिया है।

उन्होंने कहा- मुझे वहां विभिन्न खिलाडिय़ों के साथ खेलने का मौका मिलता है जिन्हें मैं जानती भी नहीं थी। इन खिलाडिय़ों के साथ एक महीने से भी ज्यादा समय तक साथ रहना और खेलना होता है। हम पहले सिर्फ अपने खिलाडिय़ों के साथ ही खेलते थे लेकिन वहां जाकर सुबह से शाम तक खेलना पड़ता है जिससे मैंने काफी कुछ सीखा है।

हरमनप्रीत ने कहा- हम भारत में समय को ज्यादा महत्व नहीं देते हैं कि हमें कब ट्रेनिंग करनी है और कब मैदान से बाहर जाना है। हम ऐसा नहीं करते हैं। लेकिन हम जब वहां जाते हैं तो सब चीजें करते हैं, वहां अलग प्रकार का दबाव होता है।

.
.
.
.
.