Sports

शतरंज उन गिने चुने खेलो मे से एक रहा है जिसने कोविड के दौरान भी देश को ढेरो उपलब्धियां दी जिसमें सबसे बड़ी उपलब्धि 2020 के सितंबर मे विश्व ऑनलाइन शतरंज ओलंपियाड मे रूस के साथ स्वर्ण पदक भी हासिल करना रहा । अखिल भारतीय शतरंज संघ विश्व शतरंज संघ के साथ मिलकर इस बौद्धिक खेल को युद्ध स्तर पर आगे ले जाने की योजना पर काम कर रहा है । संघ सचिव और फीडे टेक्निकल समिति के चेयरमैन भारत सिंह नें इस बारे मे पंजाब केसरी के प्रतिनिधि फीडे इंस्ट्रक्टर निकलेश जैन से खास बातचीत की

पंजाब केसरी – पहली बार विश्वनाथन आनंद को सलाहकार समिति मे शामिल किया गया संघ इनके अनुभव का कैसे लाभ लेने जा रहा है ?

भारत सिंह – देश मे शतरंज को आगे बढ़ाने मे जो भी समितियां हम बना रहे है उसमें हम सभी अनुभवी खिलाड़ियों को शामिल कर रहे है और कुछ प्रशिक्षक , कुछ सलाहकार ,कुछ खिलाड़ियों का प्रतिनिधित्व करेंगे , अखिल भारतीय शतरंज संघ के 21 मे से 14 पदाधिकारी खुद अंतर्राष्ट्रीय रेटेड खिलाड़ी है और हम अनुभव का भरपूर फ़ायदा उठाएंगे ।

पंजाब केसरी - भारत के जूनियर खिलाड़ियों निहाल और प्रगगानंधा जैसे खिलाड़ियों को जिन्हे भविष्य कहा जा रहा है उन्हे लेकर क्या योजना है ?

भारत सिंह – हमने पिछले वर्ष ही 15 जूनियर खिलाड़ियों को चयनित कर उनकी ट्रेनिंग कराने का निर्णय लिया था जिसमें विश्व के दिग्गज प्रशिक्षको को शामिल किया गया था पर कोविड की वजह से कुछ माह मे यह रुक गया था जिसे पुनः शुरू किया जा रहा है । सरकार के सहयोग से हम उन्हे दुनिया के अच्छे टूर्नामेंट भी खेलने भेजेंगे । इस हेतु पिछले वर्ष हमने 25 लाख रुपेय की राशि तय की तो जो हम जरूरत पड़ने पर और बढ़ाएँगे ।

PunjabKesari

पंजाब केसरी - क्या महिला शतरंज भी आपकी योजना का हिस्सा है ?

भारत सिंह - भारत हम हमारी शीर्ष महिला खिलाड़ियों के लिए बड़े ग्रांड मास्टर राउंड रॉबिन टूर्नामेंट करने जा रहे है और साथ ही साथ जूनियर खिलाड़ियों के लिए स्मार्ट गर्ल टूर्नामेंट और प्रशिक्षण शिविर भी आयोजित किए जाएँगे

पंजाब केसरी - स्कूल मे शतरंज और शतरंज लीग इस पर कुछ प्रकाश डाले 

भारत सिंह - स्कूल मे शतरंज को लेकर एक हमारी खास तैयारी कर चुके है हम सरकार की और से स्कूल और टूर्नामेंट चालू किए जाने का इंतजार कर रहे है । हम भारत के हर कोने के स्कूल मे शतरंज को शामिल करने को लेकर खास प्रयास करने जा रहे है जिसके लिए हम ज्यादा से ज्यादा स्कूल के खेल शिक्षको को इसकी ट्रेनिंग देने जा रहे है जितना यह प्रयास कामयाब होगा उतना देश मे शतरंज आगे बढ़ेगा और शतरंज लीग इसके ठीक बाद हम शुरू करेंगे यह एक पूरी तरह से प्रोफेशनल लीग होगी अन्य खेलो की लीग की तरह जहां पर हम दुनिया और देश के दिग्गज खिलाड़ियों को एक मंच मे लाएँगे

पंजाब केसरी - इस वर्ष भारतीय टीम नें ऑनलाइन ओलंपियाड जीता अब अगला क्लासिकल शतरंज ओलंपियाड 2023 मे होगा इसको लेकर क्या योजना है ?

भारत सिंह – शतरंज ओलंपियाड मे दुनिया के 185 देशो को टीम खेलती है और यह वह मौका होता है जब हम दुनिया को अपनी ताकत का परिचय कराते है, हमारी तैयारी अभी से जारी होगी और उसके पहले आने वाले हर बड़े टूर्नामेंट को अच्छी योजना के साथ खेला जाएगा । फिलहाल यह खिलाड़ियों को तैयार करने का समय है और अब बुनियादी स्तर से इस पर काम कर रहे है और हम कड़ी से कड़ी ट्रेनिंग करेंगे ।

PunjabKesari

पंजाब केसरी – फीडे नें हाइब्रिड शतरंज शुरू किया है । क्या एआईसीएफ़ ऐसा कुछ करने की सोच रहा है ?

भारत सिंह – कोविड की वजह से अभी फीडे का यह एक शानदार फैसला है जहां पर खिलाड़ियों को यात्रा करने की बजाए अपने शहर के किसी खास चयनित स्थान पर जाकर अपना मैच खेलना होगा और इससे हमारे देश मे खेल गतिविधियां शुरू करने मे मदद मिलेगी । अखिल भारतीय शतरंज जल्द ही जूनियर राष्ट्रीय चैंपियनशिप इसी पद्धति से कराने का निर्णय ले रही है ।

पंजाब मे शतरंज की स्थिति के बारे मे बात करते हुए भारत सिंह जी नें पंजाब केसरी के द्वारा आयोजित होने वाले बच्चो के लिए निःशुल्क शतरंज टूर्नामेंट नें खेल को राज्य मे आगे बढ़ाने मे ना सिर्फ एक बड़ी भूमिका निभाई है बल्कि यह युवाओ को सही रास्ता भी दिखा रहा है । कई ओद्योगिक घराने भी सामने आए है पर पंजाब केसरी खासतौर पर लगातार इस दिशा मे काम कर रहा है जो बेहद सराहनीय है । बाकी राज्यों की तरह पंजाब मे भी हमारी योजना लागू होगी जहां पर जिला स्तर से ही खेल को आगे बढ़ाने के लिए हम काम करने जा रहे है ।

 

.
.
.
.
.