Sports

इंदौर : भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरूण को लगता है कि कौशलपूर्ण तेज गेंदबाजों की इकाई में प्रत्येक की विशेष काबिलियत के कारण ही मौजूदा भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है। पिछले 20 वर्षों में तेज गेंदबाजों ने अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया है जिसमें विकेट से ज्यादा उनके कौशल की छाप अमिट रही है। अरूण ने मैच के बाद कहा कि इस समय हम दुनिया की नंबर एक टीम हैं। वहां तक पहुंचना ही मुश्किल है और वहां पर बने रहना और भी ज्यादा कठिन है। मुझे लगता है कि पिछले तीन वर्षों में ऐसा करने के लिए आपको लगातार भूखा रहना जरूरी है। 

भारत के सबसे सफल गेंदबाजी कोच अरूण ने फिर तीन तेज गेंदबाजों में हरेक के बारे में बात की। इशांत के बाएं हाथ के शादमान इस्लाम को ‘राउंड द विकेट’ आउट करने के तरीके के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि उसने उस वैरिएशन पर कल से ही काम करना शुरू कर दिया था। इसलिए अगर आप देखो तो उसने विकेट लेने के बाद इशारा किया कि वह बहुत खुश था कि वह ऐसा कर सका। 

उन्होंने कहा कि हर बार आप अपनी गेंदबाजी में नए पहलू को तराशने की कोशिश करते हो तो आप लगातार सुधार करते हो। इससे उससे और प्रयोग करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि इशांत शायद हमारा सबसे अनुभवी गेंदबाज है। वह 90 से ज्यादा मैच खेल चुका है। वह विभिन्न कोणों से प्रयोग करने की कोशिश करता है। और अब वह जो कुछ करता है, उसकी गेंदबाजी के अनुरूप होता है।

उमेश के बारे में बात करते हुए उन्होंने उनके ‘जज्बे’ की प्रशंसा की कि विशेष टीम संयोजन के कारण अंदर बाहर किए जाने के बावजूद उनके आत्मविश्वास में जरा भी कमी नहीं आई। पूर्व भारतीय गेंदबाज ने कहा कि उमेश ने वापसी के बाद शानदार जज्बा दिखाया। लेकिन बुमराह भी उबरकर वापसी की ओर है। आपके पास 5 तेज गेंदबाज (भुवनेश्वर कुमार) हैं जो देश के लिए खेलने को तैयार हैं। और अगर समय के साथ आप कार्यभार का प्रबंधन अच्छी तरह करने में सफल हो जाते हो तो हम सुनिश्चित कर सकते हैं हम जो भी मैच खेलेंगे, उसमें से प्रत्येक तरोताजा और शानदार होगा। 

अरूण ने मोहम्मद शमी की ‘सीम पाजीशन’ को दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बताया। उन्होंने कहा कि शमी में रफ्तार पहले से ही थी। तुलना करना उचित नहीं होगा लेकिन अगर आप दुनिया के गेंदबाजों को देखो तो शमी के पास शायद सबसे सर्वश्रेष्ठ सीज पाजीशन है। रफ्तार को बरकरार रखने का एक ही तरीका है कि उसने अपनी फिटनेस पर काफी काम किया है।

.
.
.
.
.