Sports

नई दिल्ली : भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने गाबा टेस्ट के दूसरे दिन अच्छी शुरुआत के बाद खराब शॉट खेलकर अपना विकेट गंवा लिया। रोहित जब 44  रन बनाकर खेल रहे थे तो ऑस्ट्रेयिाई स्पिनर नाथन लियोन की गेंद को उठाकर मारने के चक्कर में स्टार्क के हाथों लपके गए। क्रिकेट दिग्गज सुनील गावस्कर ने रोहित के इस रवैये की आलोचना की।  गावस्कर ने कहा- रोहित टेस्ट को भी टी-20 या वनडे की तरह ले रहे हैं। इस कारण वह अपना विकेट गंवा बैठे। वहीं, रोहित ने दूसरे दिन के खत्म होने के बाद प्रेस वार्ता में कहा कि उन्हें अपने शॉट लगाने पर कोई गिला नहीं है।

AUS vs IND, Rohit sharma, Sunil Gavaskar, Cricket news in hindi, Sports news, रोहित शर्मा,  नाथन लियोन, सुनील गावस्कर, Australia vs India, Australia vs India 4th test,

रोहित ने कहा- मैं जहां पहुंचना चाहता था वहां पहुंच गया, बस मैं उस जगह की ओर नहीं जा पाया जहां मैं गेंद को हिट करना चाह रहा था। मैं उस लंबे-चौड़े और गहरे स्क्वायर-लेग फील्डर को भेदने की कोशिश कर रहा था। मुझे वास्तव में जो मैंने आज किया वो पसंद आया। हम जानते थे कि यह बल्लेबाजी करने के लिए एक अच्छी पिच होगी। निश्चित रूप से ऐसा उछाल मुझे पसंद है।

AUS vs IND, Rohit sharma, Sunil Gavaskar, Cricket news in hindi, Sports news, रोहित शर्मा,  नाथन लियोन, सुनील गावस्कर, Australia vs India, Australia vs India 4th test,

रोहित ने कहा- एक बार जब मैं अंदर गया। कुछ ओवर खेले तो मैंने महसूस किया कि वहां बहुत स्विंग नहीं थी। मेरी बर्खास्तगी दुर्भाग्यपूर्ण थी। हालांकि यह कुछ ऐसा था जिसका मुझे पछतावा नहीं होगा। मैं गेंदबाज पर दबाव बनाना पसंद करता हूं और मैं टीम में अपनी भूमिका निभाता हूं ताकि गेंदबाजों पर दबाव बना रहे। उन्होंने कहा, रन-स्कोरिंग दोनों टीमों के लिए थोड़ा मुश्किल रहा है, इसलिए किसी को आगे बढऩे की जरूरत है। 

AUS vs IND, Rohit sharma, Sunil Gavaskar, Cricket news in hindi, Sports news, रोहित शर्मा,  नाथन लियोन, सुनील गावस्कर, Australia vs India, Australia vs India 4th test,

वहीं, नाथन लियोन से विकेट गंवाने पर रोहित ने कहा- जब ऐसा करते हैं तो गलतियों की संभावना हो जाती है। लेकिन हमें स्वीकार करना चाहिए कि यह हमारी योजना का एक हिस्सा था। मुझे वास्तव में उस शॉट को खेलने का कोई पछतावा नहीं है। नाथन लियोन स्मार्ट गेंदबाज हैं, उन्होंने मुझे गेंदबाजी की इसलिए मैं ऊंचाई हासिल करने में सक्षम नहीं हो पाया।

.
.
.
.
.