Sports

कराची : पाकिस्तान के पूर्व कप्तानों शाहिद अफरीदी और जहीर अब्बास का मानना है कि सरफराज अहमद को टेस्ट टीम की कप्तानी नहीं करनी चाहिए हालांकि वह सीमित ओवरों के प्रारूप में यह जिम्मेदारी संभालना जारी रख सकते हैं। अफरीदी ने यहां मीडिया से कहा कि सरफराज को एकदिवसीय और टी20 टीमों का कप्तान बनाए रखना फैसला सही है लेकिन वह टेस्ट मैचों के लिए उपयुक्त कप्तान नहीं है। 

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि सरफराज अगर टेस्ट में टीम का नेतृत्व नहीं करते हैं तो उनके लिए अच्छा होगा। मेरा मानना है कि तीनों प्रारूपों में कप्तानी करना उनके लिए बड़े बोझ की तरह है। उनके पास सीमित ओवर के प्रारूपों में एक सफल कप्तान बनने की काबिलियत है।' सरफराज ने मिस्बाह-उल-हक के संन्यास के बाद 2017 के बाद से तीनों प्रारूपों में पाकिस्तान का नेतृत्व किया है लेकिन टेस्ट में उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा जहां टीम आईसीसी रैंकिंग में 7वें स्थान पर खिसक गई है।

PunjabKesari

पूर्व दिग्गज जहीर अब्बास ने भी ऐसी ही राय व्यक्त की। उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि वह तीनों प्रारूपों में कप्तानी के दबाव का ठीक से प्रबंधन कर पा रहे हैं। सरफराज को सिर्फ एकदिवसीय और टी20 प्रारूपों में यह जिम्मेदारी सौपी जानी चाहिए। उन्होंने मिस्बाह को कोच और चयनकर्ता की दोहरी भूमिका दिये जाने की आलोचना करते हुए कहा कि उन्हें शीर्ष स्तर पर कोचिंग का अनुभव नहीं है। अब्बास ने कहा, ‘मुझे लगता है इससे मिस्बाह पर काफी दबाव बनेगा क्योंकि उसके पास शीर्ष स्तर की कोचिंग का अनुभव भी नहीं है। 

.
.
.
.
.