Sports
नयी दिल्ली, 29 नवंबर (भाषा) रुतुराज गायकवाड़ ने विजय हजारे ट्रॉफी के क्वार्टरफाइनल में 43 रन के ओवर में सात छक्के जड़कर सुर्खियां बटोरी लेकिन इस उपलब्धि को हासिल करने से पहले ही उनके दिमाग में जो नाम आया वह युवराज सिंह का था।

भारत के पूर्व स्टार ऑलराउंडर युवराज ने 2007 में पहले टी20 विश्व कप में इंग्लैंड के स्टुअर्ट ब्रॉड के खिलाफ एक ओवर में छह छक्के जड़े थे।

महाराष्ट्र के लिए खेलते हुए गायकवाड़ ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के बाएं हाथ के स्पिनर शिवा सिंह के पारी के 49वें ओवर में सात छक्के जड़कर लिस्ट ए में विश्व रिकॉर्ड बनाया। नोबॉल की वजह से उन्हें एक अतिरिक्त गेंद खेलने को मिली।

गायकवाड़ ने ‘बीसीसीआई.टीवी’ से कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो पांचवें छक्के के बाद मेरे दिमाग में केवल एक ही व्यक्ति का नाम आया, वह युवराज सिंह थे। मैंने उन्हें 2007 (टी20) विश्व कप के दौरान जब मैं बहुत छोटा था तब एक ओवर में छह छक्के मारते हुए देखा था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं उनके साथ शामिल होना चाहता था और इसलिए मैं छठा छक्का जड़ना चाहता था। मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं लगातार छह छक्के मारूंगा। यह बहुत खुशी की बात है।’’

गायकवाड़ ने अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम बी ग्राउंड में महाराष्ट्र की पारी के 49वें ओवर में यह उपलब्धि हासिल की। गेंदबाज ने ओवर की पांचवीं गेंद नोबॉल फेंकी जिस पर भी उन्होंने छक्का मारा।


गायकवाड़ ने कहा, ‘‘जब मैंने छठा छक्का जड़ा तो सोचा कि क्यों न सातवें के लिए कोशिश की जाए। मुझे लगता है कि यह छह छक्के या सात छक्के मारने के बारे में नहीं था, यह उस ओवर को अधिकतम रन बनाने की कोशिश करने के बारे में था। मैं टीम के लिए अधिक से अधिक रन बनाने की कोशिश कर रहा था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसका श्रेय अपने सभी साथियों, अपने परिवार के सदस्यों, महाराष्ट्र के लोगों को देना चाहूंगा।’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।