Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारत के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह ने हाल ही में पुरानी यादों को ताजा करते हुए कहा कि 2011 विश्व कप तक पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को मुझ पर बहुत भरोसा था लेकिन इसके बाद चीजें बदल गई। युवराज ने अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ 2017 में खेला था और इसके बाद वर्ल्ड कप 2019 में जगह ना पाता देख संन्यास ले लिया था। 

युवराज ने कहा, जब मैंने वापसी की तो विराट कोहली ने मेरा सपोर्ट किया। अगर उसने मेरा समर्थन नहीं किया होता तो मैं वापसी नहीं कर पाता। लेकिन वह महेंद्र सिंह धोनी था जिसने मुझे सही तस्वीर दिखाई कि 2019 वर्ल्ड कप में सिलेक्टर मुझे नहीं देख रहे हैं। युवराज ने धोनी के बारे में बात करते हुए कहा कि उसने मुझे सही तस्वीर दिखाई, मुझे स्थिति साफ की, उसने वह सब किया जो कर सकता था। 

2011 वर्ल्ड कप के बाद चीजें बदल गई 

युवराज ने कहा कि पूर्व कप्तान धोनी को 2011 विश्व कप तक उन पर पूरा भरोसा था। लेकिन जब वह बीमारी (कैंसर) से जंग जीतकर वापस लौटे तो चीजें बदल चुकी थी। पूर्व धमाकेदार आलराउंडर को 2015 विश्व कप टीम का हिस्सा भी नहीं बनाया गया था। 

युवराज ने कहा, 2011 वर्ल्ड कप तक धोनी को मुझ पर बहुत भरोसा था और वह कहते थे कि तुम मेरे मुख्य खिलाड़ी हो। लेकिन जब मैंने ठीक होने के बाद वापसी की तो टीम में चीजें बदल चुकी थी। जहां तक 2015 विश्व कप की बात है तो आप सच में किसी एक पर उंगली नहीं उठा सकते। यह एक बहुत ही व्यक्तिगत कॉल है। मैं समझ गया था कि एक कप्तान के रूप में आप सब कुछ साबित नहीं कर सकते क्योंकि अंत में आपको देखना होता है कि देश कैसे परफार्म कर रहा है। 

.
.
.
.
.