Sports

पुणे : तेज गेंदबाज उमेश यादव का मानना है कि भारत में प्रतिभा की कमी नहीं है लेकिन युवाओं को राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए उन्हें वर्तमान टीम के सदस्यों ने बेहतर प्रदर्शन करना होगा। विदर्भ के इस तेज गेंदबाज ने कहा कि वर्तमान टीम में शामिल खिलाड़ियों ने पिछले वर्षों में बहुत अनुभव हासिल किया है और भावी खिलाड़ियों के लिए मानदंड स्थापित किए हैं। 

उमेश ने मैच के बाद कहा, ‘इस टीम में 7 से आठ खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने 40 से अधिक टेस्ट मैच खेले हैं इसलिए जब देखते हैं कि सीनियर ने कितने कड़े मानदंड स्थापित किए हैं तो उनके लिए राष्ट्रीय टीम में जगह बनाना आसान नहीं होता है। वे जानते हैं कि टीम में जगह बनाने के लिये उन्हें हमसे बेहतर प्रदर्शन करना होगा।' उमेश ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में 6 विकेट लेकर भारत की बड़ी जीत में अहम भूमिका निभाई। जसप्रीत बुमराह की वापसी के बाद वह चौथी पसंद के तेज गेंदबाज हो जाएंगे। 

उन्होंने कहा, ‘यह मेरे हाथ में नहीं है। मैं यह नहीं कह सकता कि मैं सभी टेस्ट मैचों में खेलूंगा। सभी गेंदबाज अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है और हर किसी को किसी ने किसी मुकाम पर मौका मिलेगा। मैं इसके लिये तैयार हूं और मैंने खुद को मानसिक तौर पर इसी तरह से तैयार किया है।' उमेश ने कहा, ‘जब मैं वेस्टइंडीज में नहीं खेला तो चयनकर्ताओं ने दक्षिण अफ्रीका ए सीरीज के लिए मुझे भारत ए टीम में शामिल किया। लेकिन जब वनडे और टी20 को खेले हुए लंबा समय बीत गया तो मैंने चयनकर्ताओं से कहा कि जो भी मैच हो उसमें मुझे मौका दें क्योंकि मेरे लिये मैच अभ्यास महत्वपूर्ण है।' 

उन्होंने कहा, ‘आपको अचानक ही कोई मैच खेलना पड़ता है, यह तेज गेंदबाज के लिये मुश्किल हो सकता है।' उमेश ने कहा कि सभी गेंदबाज दक्षिण अफ्रीका को फालोआन देने के पक्ष में थे। उन्होंने कहा, ‘हमने छोटे छोटे स्पेल में गेंदबाजी की और हमें थकान नहीं लगी। सभी गेंदबाजों ने कहा कि हम गेंदबाजी करके जल्द से जल्द से मैच का परिणाम हासिल करना चाहते हैं। हम आराम नहीं चाहते थे। हम नहीं चाहते थे कि बल्लेबाज कुछ समय तक मैच को आगे खींचें।' 

उमेश ने खुशी जतायी कि सपाट पिच पर टीम प्रबंधन ने पांच गेंदबाजों को उतारने का फैसला किया। उन्होंने कहा, ‘विकेट में उछाल थी लेकिन तेजी नहीं। हमें तेजी के लिये गेंद को जोर से पिच कराना पड़ रहा था। तेज गेंदबाज अपनी पूरी ताकत से तीन ओवर करेंगे और फिर स्पिनर आएंगे, यह अच्छा विचार था। हम जैसा चाहते थे हमने वैसा ही किया।' 

.
.
.
.
.