Sports

अकापुल्को (मैक्सिको) : दुनिया के तीसरे नंबर के खिलाड़ी एलेक्सांद्र ज्वेरेव को युगल मुकाबला गंवाने के बाद अंपायर की चेयर (कुर्सी) पर नाराजगी में रैकेट मारने के कारण मैक्सिको ओपन टेनिस टूर्नामेंट से बाहर कर दिया गया। अकापुल्को में मंगलवार रात लॉयड ग्लासपूल और हैरी हेलियोवारा ने ज्वेरेव और मार्सेलो मेलो को 6-2, 4-6, 10-6 से हराया जिसके बाद यह घटना हुई। 

ज्वेरेव ने तीन बार अंपायर की चेयर पर प्रहार किया, कुछ देर के लिए बैठे, फिर उठे और अंपायर पर चिल्लाए कि तुमने पूरा मैच खराब कर दिया। अंपायर इसके बाद जब चेयर से उतरने लगे तो ज्वेरेव ने एक बार फिर प्रहार किया। चोट लगने के डर से अंपायर को इस दौरान एक बार पीछे भी हटना पड़ा। इससे कुछ मिनट पहले ‘इन' माने गए एक शॉट के विरोध में चिल्लाने और अपशब्दों के इस्तेमाल के लिए ज्वेरेव पर आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप लगे थे। इस अंक को गंवाने से विरोधी टीम को मैच प्वाइंट मिला और ग्लासपूल ने ऐस के साथ अपनी जोड़ी को जीत दिला दी। 

एटीपी ने बुधवार को ट्विटर पर लिखा, ‘मंगलवार रात युगल मुकाबले के खत्म होने के बाद खेल भावना के विपरीत आचरण के कारण एलेक्सांद्रा ज्वेरेव को अकापुल्को में टूर्नामेंट से हटा दिया गया है।' जर्मनी का यह 24 वर्षीय खिलाड़ी एकल में गत चैंपियन है। एटीपी वेबसाइट के अनुसार एकल में ज्वेरेव के दूसरे दौर के प्रतिद्वंद्वी पीटर गोजोविक को वाकओवर दिया गया है। दर्शकों की हूटिंग के बाद ज्वेरेव ने अपना टूटा हुआ रैकेट पहली पंक्ति में बैठे एक बच्चे को दे दिया। 
 

.
.
.
.
.