Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय टेस्ट टीम के उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कई बार टीम को सफलता दिलाई है और उनकी कप्तानी में भारत एक बार भी नहीं रहा है। वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल जोकि 18 जून से शुरू हो उसमें भी इस खिलाड़ी की भुमिका अहम रहने वाली है। रहाणे के लिए भारतीय टीम में जगह बनाने का सफर इतना आसान नहीं रहा है। लगातार प्रदर्शन के बाद भी जब उन्हें टीम में जगह नहीं मिली थी तो वह निराश भी थे और इस दौरान राहुल द्रविड़ उनके लिए प्रेरणा स्रोत बने और कहा कि तुम उनके पीछे मत भागों वो तुम्हारे पीछे भागेंगे। 

रहाणे ने एक शो के दौरान पूर्व क्रिकेटर दीपदास गुप्ता से बातचीत में कहा, मुझे याद है 2008-09 दिलीप ट्रॉफी के फाइनल में हम साउथ जोन के खिलाफ खेल रहे थे। उस मैच में मैंने 165 और 98 रनों की इनिंग्स खेली थी और राहुल भाई भी थे। उन्होंने कहा, राहुल भाई ने मैच के बाद मुझे बुलाया और कहा कि मैंने आपके बारे में बहुत सुना है, आप काफी रन बना रहे हो। तब राहुल भाई ने कहा कि स्वाभाविक तौर पर आप भारत के लिए खेलने की उम्मीद कर रहे होंगे, लेकिन आप सिर्फ खेल पर ध्यान दो, जल्द मौका मिल जाएगा। 

रहाणे ने खुलासा किया कि उस बातचीत में राहुल सर ने कहा था कि आपको बस इतना कहूंगा कि उसके पीछे मत भागो, वह तुम्हारा पीछा करेगा। राहुल भाई की सलाह से मुझे वास्तव में प्रेरणा मिली। उन्होंने काफी उतार-चढ़ाव देखे हैं। अगले सीजन में मैंने फिर हजार रन बनाए और उसके 2 साल बाद मेरा चयन हो गया। 

.
.
.
.
.