Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: भारत ने सात दशक में ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर पहली टेस्ट सीरीज जीतने की ओर मजबूत कदम बढ़ाते हुए रविवार को तीसरे क्रिकेट टेस्ट के पांचवें और अंतिम दिन यहां 137 रन की जीत के साथ बोर्डर-गावस्कर ट्राॅफी अपने पास बरकरार रखी। भारत ने चार मैचों की श्रृंखला में 2-1 की अजेय बढ़त बना ली है। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने विदेश में सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जीतने के सौरव गांगुली और बिशन सिंह बेदी के एक खास रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है।
 
विदेशी धरती पर सबसे सफल कप्तान
PunjabKesari
कोहली ने अपनी कप्तानी में विदेशी जमीन पर अब तक कुल 24 मैच खेले हैं, जिनमें ये उनकी 11वीं जीत थी। पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने अपने नेतृत्व में टीम इंडिया को विदेशों में खेले 28 मैचों में 11 जीत दिलाई थी। साथ ही भारतीय टीम को सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जिताने का रिकॉर्ड हासिल करने से कोहली केवल एक कदम दूर हैं। विराट कोहली ने अपनी कप्तानी में खेले 45 टेस्ट मैचों में से 26 में जीत हासिल की है।
PunjabKesari
कोहली अगर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज का चौथा और आखिरी टेस्ट मैच जीत जाते हैं तो वो एक साथ दो रिकॉर्ड हासिल कर लेंगे। सिडनी टेस्ट जीतकर कोहली धोनी की बराबरी कर लेंगे और गांगुली से आगे निकल जाएंगे। गौरतलब है कि भारतीय टीम ने मेलबर्न में अपनी 150वीं टेस्ट मैच जीत दर्ज की। और ये कीर्तिमान भारत ने कोहली की कप्तानी में हासिल किया। टीम इंडिया टेस्ट क्रिकेट में 150 मैच जीतने वाली दुनिया की पांचवीं टीम है।

कोहली ने की बिशन सिंह बेदी की बराबरी 
PunjabKesari
मेलबर्न टेस्ट जीतने के साथ ही कप्तान कोहली ने बिशन सिंह बेदी के एक खास रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। दरअसल, बिशन सिंह बेदी के नाम ऑस्ट्रेलिया में सीरीज में दो मैच जीतने का रिकॉर्ड दर्ज है। विराट ने एडिलेड टेस्ट जीतने के बाद मेलबर्न टेस्ट जीतकर उनके रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। बिशन सिंह बेदी की कप्तानी में भारत 1977-78 में सीरीज खेलने ऑस्ट्रेलिया गया था। बतौर कप्तान बिशन सिंह बेदी ने यहां सीरीज के दो मैच जीते थे। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में अबतक सिर्फ 5 कप्तान ही टेस्ट मैच जीत पाए हैं। 1977-78 में बिशन सिंह बेदी, 1981 में सुनील गावस्कर, 2003 में सौरव गांगुली, 2008 में अनिल कुंबले और अब मौजूदा सीरीज में विराट कोहली। कोहली ने मेलबर्न टेस्ट जीतकर गावस्कर, गांगुली, कुंबले को इस रिकॉर्ड में पीछे छोड़ दिया है।

 

 

 

 

 

 

.
.
.
.
.