Sports

नई दिल्ली : कर्नाटक के सलामी बल्लेबाज देवदत्त पड्डिकल ने खुद को एक बार फिर से साबित करते हुए विजय हजारे ट्रॉफी में शतकों की हैट्रिक लगा दी है। रेलवे के खिलाफ खेले गए मुकाबले में पड्डिकल ने कप्तान रविकुमार समर्थ के साथ मिलकर 285 रनों की पार्टनरशिप की और अपनी टीम को जीत दिला दी। विजय हजारे ट्रॉफी में पहले विकेट के लिए संभवत: यह सबसे बड़ी साझेदारी है। 
देवदत्त टूर्नामैंट के दौरान शानदार फॉर्म में चल रहे हैं। वह लगातार पांच पारियों में 50+ स्कोर बनाने वाले पहले बल्लेबाज भी बन गए हैं। उनकी पारियां-
52 बनाम उत्तर प्रदेश
97 बनाम बिहार
152 बनाम ओढि़सा
126* बनाम केरला 
145* बनाम रेलवे
5 मैच, 572 रन, 190.67 औसत
बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 145 रन की पारी के दौरान नौ छक्के और इतने ही चौके लगाए। बीस साल के इस बल्लेबाज को कप्तान रविकुमार समर्थ का अच्छा साथ मिला जिन्होंने 118 गेंद में 17 चौकों की मदद से नाबाद 130 रन बनाए। दोनों ने पहले विकेट के लिए 285 रन की अटूट साझेदारी कर 57 गेंद शेष रहते कर्नाटक को 10 विकेट की प्रभावशाली जीत दिलाई। इस जीत के साथ टीम ने ग्रुप सी तालिका में शीर्ष पर रहते हुए अंतिम आठ के लिए क्वालीफाई किया जबकि उत्तर प्रदेश दूसरे स्थान पर रहा।

Vijay Hazare Trophy, Devdutt Padikkal, Third century, Cricket news in hindi, sports news, देवदत्त पड्डिकल, विजय हजारे ट्रॉफी

उत्तर प्रदेश ने ओडिशा को छह विकेट से शिकस्त दी। पड्डीकल ने लगातार तीन शतकीय पारी से पहले दो मैचों में अर्धशतक भी लगाया था। 5 मैचों में उनके नाम 190.66 की औसत से 572 रन है और वह बल्लेबाजों की तालिका में शीर्ष पर है। इससे पहले सलामी बल्लेबाज प्रथम सिंह की 129 रन की पारी के दम पर रेलवे ने 50 ओवर में नौ विकेट पर 284 रन का स्कोर खड़ा किया था। ग्रुप के दूसरे मैच में केरल ने बिहार को नौ विकेट से हराया।

Vijay Hazare Trophy, Devdutt Padikkal, Third century, Cricket news in hindi, sports news, देवदत्त पड्डिकल, विजय हजारे ट्रॉफी

केरल ने बिहार की पारी को 148 रन पर समेटने के बाद महज 8.5 ओवर में एक विकेट के नुकसान पर लक्ष्य हासिल कर लिया। केरल के लिए श्रीसंत ने चार विकेट लिये जबकि रोबिन उथप्पा ने 10 छक्के और चार चौकों की मदद 32 गेंद में 87 रन की नाबाद पारी खेली। ग्रुप के तीसरे मैच में उत्तर प्रदेश ने ओडिशा को 148 रन आउट कर 21.4 ओवर में चार विकेट के नुकसान पर 150 रन बनाकर जीत दर्ज की।

.
.
.
.
.