Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : सनराइजर्स हैदराबाद और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच आईपीएल 2020 का 35वां मैच खेला जा रहा है। इस दौरान अंपायर पस्चिम पाठक सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे हैं। इसका कारण उनके बालों का स्टाइल है। पाठक जब मैदान पर अंपायरिंग करने आए तो लम्बे बालों और कैप (टोपी) की वजह से लोगों का ध्यान उनपर पड़ा और वह ट्विटर पर ट्रेंड करने लगे। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि पस्चिम नए नहीं हैं बल्कि सालों से अंपायरिंग कर रहे हैं। आइए जानते हैं उनके बारे में - 

PunjabKesari

कौन हैं पश्चिम पाठक ? 

पाठक का जन्म 17 दिसम्बर 1976 को मुंबई में हुआ था और वह सनराइजर्स और कोलकाता के खिलाफ आईपीएल 2020 में पहली बार फील्ड पर अंपायरिंग करने उतरे। इससे पहले वह साल 2009 से ही भारतीय घरेलू क्रिकेट में अंपायरिंग कर रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने भारत में खेले गए 2 टेस्ट और 3 वनडे मैचों में भी अंपायरिंग की है। 

पहली बार नहीं की आईपीएल में अपायरिंग 

उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भी आधिकारिक रूप से काम किया है। साल 2012 वह दो महिला वनडे मैचों में भी अंपायरिंग कर चुके हैं। जहां तक आईपीएल की बात है तो पाठक इससे पहले साल 2014 और 2015 में मैदान पर अंपायरिंग करते नजर आए थे। इस दौरान उन्होंने 4-4 मैचों में अंपायरिंग की थी। 

साल 2015 में आए थे चर्चा में 

साल 2015 में पाठक उस समय चर्चा में आए जब उन्होंने एक मैच के दौरान हेलमेट पहनकर अंपायरिंग की थी। उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी के दौरान हैलमेट पहना था। उन्होंने रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान अपने सहकर्मी को सिर पर खतरनाक चोट के निशान देखकर यह फैसला लिया था। पश्चिम पाठक तमिलनाडु में रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान स्क्वायर लेग पोजीशन पर थे, जब उन्होंने अंपायर जॉन वार्ड के सिर के पीछे एक शॉट लगा देखा। 

PunjabKesari

इस घटना के बाद हेलमेट पहनकर करने लगे थे अंपायरिंग 

उन्होंने साल 2015 में कहा था कि फिल ह्यूज की घटना और इज़राइल में एक अंपायर की मौत के बाद, मैं किसी तरह के सुरक्षात्मक गियर पहनने के बारे में सोच रहा था, लेकिन यह भी सुनिश्चित नहीं है कि हेलमेट पहनना कैसा लगेगा। मैं साथी अंपायरों के साथ एक हेलमेट का उपयोग करने की संभावना पर चर्चा कर रहा था, लेकिन विचार केवल विचार मंच तक सीमित थे। 

उन्होंने कहा था कि गेंद लगने की आवाज डरा देने वाली थी। मुझे लगा कि उसकी खोपड़ी खुल गई है। यह वह समय था जब मुझे लगा कि मैं निश्चित रूप से अपने अगले मैच के दौरान हेलमेट पहनूंगा।  

.
.
.
.
.