Sports

दुबई : पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने आईसीसी टी20 विश्व कप में सूर्यकुमार यादव को भारत के लिए संभावित ‘गेम चेंजर' (मैच का रूख बदलने वाला) करार करते हुए कहा कि पावरप्ले के बाद के ओवरों में उसके ‘360' डिग्री के शॉट खेलने की काबिलियत उसे एक विशेष खिलाड़ी बनाती है। भारत और पाकिस्तान रविवार को एक दूसरे के खिलाफ टूर्नामेंट में अभियान शुरू करेंगे। 

बाएं हाथ के इस महान गेंदबाज ने कहा कि आईसीसी टूर्नामेंट में पाकिस्तान के निराशाजनक रिकार्ड का आगामी मैच पर कोई असर नहीं पड़ेगा। महान खिलाड़ी अकरम ने कहा, ‘सूर्यकुमार यादव भारत के ‘गेम चेंजर' खिलाड़ी होंगे। वह छह (पावरप्ले) ओवर के बाद मैच का रूख बदल देंगे और मैंने उसके शॉट्स देखे हैं, वह कोलकाता नाइट राइडर्स में (2012 और 2014) में मेरे साथ (अकरम टीम के मेंटोर) था और उसमें काफी सुधार हुआ है।' 

उन्होंने कहा, ‘वह कितना शानदार खिलाड़ी बन गया है। वह सुरक्षित शाट खेलता है, रूकता नहीं है इसलिये उसे इसी तरह से खेलना चाहिए।' बल्कि अकरम को लगता है कि बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) द्वारा पिछले दशक में घरेलू क्रिकेट में किए गए बदलाव ने टीम को सूर्यकुमार जैसा खिलाड़ी दिया है। उन्होंने कहा, ‘मैंने अजिंक्य (रहाणे) को सुना कि बीसीसीआई ने घरेलू क्रिकेट में निवेश किया है। अब आपको उसका फल मिल रहा है।' 

विराट कोहली ने टी20 कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है तो अकरम को लगता है कि इससे उन्हें टूर्नामेंट में बिना किसी दबाव के क्रिकेट खेलने में मदद मिलेगी। कोहली और पाकिस्तान के युवा कप्तान बाबर आजम के बीच तुलना पर अकरम ने कहा कि बाबर उपलब्धियों के मामले में भारतीय कप्तान का अनुकरण करेगा। उन्होंने कहा, ‘विराट तो विराट है, दुनिया के महान खिलाड़ियों में से एक। बाबर ने अभी कप्तानी शुरू ही की है, लेकिन वह काफी अच्छा खिलाड़ी है। वह टी20 या वनडे, सभी प्रारूपों में निरंतर रहा है। वह कप्तानी के गुर सीख रहा है, वह काफी तेज सीखता है।' 

उन्होंने कहा, ‘यह एक यात्रा है और बाबर अंत में उन ऊंचाइयों को छुएगा जो कोहली हासिल कर चुके हैं।' टेस्ट और वनडे में मिलाकर 900 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय विकेट हासिल कर चुके अकरम हालांकि टूर्नामेंट शुरू होने से पहले पाकिस्तानी टीम में किये गये बदलाव से खुश नहीं थे। उन्होंने कहा, ‘चयनकर्ताओं ने तीन खिलाड़ियों को बदला और शोएब (मलिक) अच्छी फॉर्म में हैं लेकिन यह दर्शाता है कि उनके पास कोई अच्छी योजना नहीं थी। जब आप ऐसी स्थिति बनाते हो तो खिलाड़ियों पर असर पड़ता है। लेकिन अब टीम की घोषणा हो गयी है तो मैं कहूंगा कि शोएब के पास अनुभव है और इससे अंतर पैदा होगा।' 
 

.
.
.
.
.