Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : महान कप्तान एमएस धोनी के प्रशंसकों की सूची लंबी है जिसमें चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) के थ्रोडाउन स्पेशलिस्ट कोंडप्पा राज पलानी भी हैं। पलानी ने हाल ही में यूएई में धोनी के साथ अपनी पहली मुलाकात के बारे में खुलासा किया जब टीमें इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें संस्करण के लिए तैयार थीं। यह उसी वर्ष (2020) में था जब सीएसके के कप्तान ने अगस्त में अपनी अंतरराष्ट्रीय संन्यास की घोषणा की थी। 

पलानी ने कहा कि जब शिविर शुरू हुआ तो धोनी संन्यास ले चुके थे और उन्हें नेट्स में कुछ अभ्यास की जरूरत थी जिसके लिए उन्हें (पलानी को) बुलाया गया था। पलानी ने कहा कि नेट्स में हर कोई धोनी के संन्यास के बारे में ही बात कर रहा था और स्टीफन फ्लेमिंग और हसी ने उन्हें रांची के नायक को ध्यान से गेंदबाजी करने के लिए कहा। पलानी ने कहा, पहली बार, कैंप तब शुरू हुआ जब धोनी ने संन्यास लिया। तब मैंने उन्हें पहली बार देखा था। उन्होंने पूछा कि क्या आप गेंद फेंकने वाले हैं। उन्होंने मुझे गेंद डालने के लिए कहा। इसके बाद टीम खुश हुई। नेट गेंदबाज उनके संन्यास की बात कर रहे थे। दो या तीन सप्ताह के बाद, वह बगल में खेलने के लिए आए थे। हर कोई आ रहा था। 

उन्होंने कहा कि फ्लेमिंग, हसी और सभी ने कहा कि धोनी आ रहे हैं और मुझे सावधानी से गेंदबाजी करने के लिए कहा। पहली दो गेंद वाइड थी। अगली गेंद फुल टॉस थी। धोनी मेरे पास आए और बोले 'मेरी तरफ देखना बंद करो और गेंदबाजी करो।' उन्होंने मुझे स्वाभाविक रूप से खेलने के लिए कहा। मैंने उसके बाद जहां चाहा वहां गेंदबाजी करना शुरू किया और फिर वह बहुत खुश हुए। उसके बाद से वह मुझे हर दिन मेरे नाम से बुलाने लगे। 

.
.
.
.
.